Uncategorized

Mp board class 12th physics imp Question 2022 download pdf | (कक्षा 12 भौतिक विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न 2022 pdf download) | 12th physics पाठ 2 (स्थिर वैद्युत विभव तथा धारिता)

class 12th mp board physics important Questions 2022
class 12th mp board physics important Questions 2022

Table of Contents

Mp board class 12th physics imp Question 2022 download pdf | (कक्षा 12 भौतिक विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न 2022 pdf download) | पाठ 2 (स्थिर वैद्युत विभव तथा धारिता)

class 12th mp board physics important Questions 2022

class 12th mp board physics important Questions 2022

Join

Mp board class 12th physics imp Question 2022 download pdf(कक्षा 12 भौतिक विज्ञान के महत्वपूर्ण प्रश्न 2022 pdf download), पाठ 2 (स्थिर वैद्युत विभव तथा धारिता)

Note –  प्यारे छात्रों आपकी पढ़ाई को ध्यान में रखते हुए बोर्ड परीक्षा 2022 के लिए भौतिक विज्ञान के कक्षा बारहवीं के छात्रों के लिए महत्वपूर्ण प्रश्न यहां पर नीचे बताए गए हैं, अगर आप कक्षा बारहवीं के छात्र हैं और बोर्ड परीक्षा 2022 में भौतिक विज्ञान में अच्छे नंबर लाना चाहते हैं तो आपको इन सभी प्रश्नों का रिवीजन करके जरूर जाना चाहिए क्योंकि यह सभी प्रश्न एनालिसिस करके निकाले गए हैं क्लास ट्वेल्थ फिजिक्स इंपोर्टेंट क्वेश्चन 2022 नीचे आपको मिल जाएंगे।

Mp board class 12th physics imp Question 2022 download pdf को भी नीचे बताया गया है )

           (स्थिर वैद्युत विभव तथा धारिता)

प्रश्न 1- इलेक्ट्रॉन वोल्ट की परिभाषा दीजिए।  1mev  कितने जूल के बराबर  होता है?

उत्तर :-  इलेक्ट्रॉन बोल्ट – किसी इलेक्ट्रॉन को एक बिंदु से दूसरे बिंदु तक लाने में किया गया कार्य 1 इलेक्ट्रॉन  वोल्ट है, जबकि उन बिंदुओं के बीच 1 बोल्ट का विभवांतर हो।

Join
माना दो बिंदुओं A व B पर विभव  VA व VB है। अतः इनके बीच विभवांतर VA-VB होगा।
परीक्षण आवेश q₀ को बिंदु A से B तक लाने में किया गया     कार्य          w    =   q₀ × ( ∨A -VB)
       यदि    q ₀  =    e   = 1.6 × 10⁻¹⁹ कूलाम
       तथा    VA-VB =1 वोल्ट है।
         तो     W   =   1ev
अतः 1 इलेक्ट्रॉन वोल्ट (ve)
                      = (1.6× 10⁻¹⁹ कूलाम)x1वोल्ट
                      =1.6×10⁻¹⁹ जूल
इलेक्ट्रॉन वोल्ट में, ऊर्जा के बड़े मात्रक किलो इलेक्ट्रॉन वोल्ट (keV), मिलियन इलेक्ट्रॉन वोल्ट (mev) तथा बिलियन इलेक्ट्रॉन वोल्ट (Bev)  है।
1Kev=10³ ev=10³×1.6×10⁻¹⁹ = 1.6×10⁻¹⁶ जूल    1 mev=10⁶ev =10⁶×1.6×10⁻¹⁹ = 1.6×10⁻¹³ जूल 
1Bev 10⁹ ev =10⁹×1.6×10⁻¹⁹ = 1.6×10⁻¹⁰ जूल

प्रश्न 2- किसी बिंदु आवेश के कारण किसी बिंदु पर विद्युत विभव के लिए व्यंजक प्राप्त कीजिए ?

उत्तर :-  बिंदु आवेश के कारण किसी बिंदु पर वैद्युत विभव = 

 माना +q कूलाम का बिंदु आवेश K परावैद्युतांक वाले मध्यम में बिंदु O पर स्थित है. बिंदु आवेश +q के कारण उत्पन्न विद्युत क्षेत्र में बिंदु O से r मीटर दूरी पर कोई बिंदु A है जहां पर विद्युत विभव ज्ञान करना है।

किसी बिंदु आवेश के कारण किसी बिंदु पर विद्युत विभव के लिए व्यंजक प्राप्त कीजिए ?

माना रेखा OA पर, बिंदु O से X मीटर की दूरी पर कोई बिंदु B है। जिस पर परीक्षण आवेश +q₀ रखा है। कूलाम के नियम के अनुसार +q बिंदु आवेश के कारण परीक्षण आवेश +q₀ पर लगाने वाला वैद्युत बल

F = 1/4πε₀K  ×  q q₀ /  x ² न्यूटन

माना बिंदु B से बिंदु आवेश +q की ओर अनंत सूक्ष्मदूरी dx पर एक अन्य बिंदु C है। अतः परीक्षण आवेश +q₀ को बल F के विरुद्ध बिंदु B से बिंदु C तक लाने में किया गया अल्पांस कार्य                dw   =   बलx दूरी 

                    =   F x (-dx)  

= 1/ 4πε₀k qq ₀/ x² . (-dx)  

                    =   1/4πε₀k .  qq ₀/x². dx जूल 

परीक्षण आवेश +q ₀ को अनंत से बिंदु A तक लाने में किया गया कुल कार्य

 
अतः आवेश   +q के कारण , उससे r दूरी पर विद्युत विभव    V= W/ q₀   = 1/4πε₀k. q/r वोल्ट 
यदि मध्यम वायु अथवा निर्वात हो तो परावैद्युतांक K=1 
अतः
वैद्युत विभव V= 1/4πε₀  .q/r वोल्ट 
इसी प्रका – q के कारण बिंदु A पर वैद्युत विभव 
V = -1/4πε₀k. q/r वोल्ट

प्रश्न 3.  किसी वैद्युत द्विध्रुव के अक्ष पर स्थित किसी बिंदु पर  वैद्युत विभव का सूत्र स्थापित कीजिए?

उत्तर –  माना AB विद्युत द्विध्रुव K परावैद्युतांक के मध्यम में स्थित है। जिसके  A सिरे पर +q तथा आवेश B सिरे पर – q    आवेश एक दूसरे से 2L दूरी पर स्थित है। इस विद्युत द्विध्रुव के मध्य बिंदु o से r मीटर की दूरी पर इसकी अक्षीय स्थिति में कोई बिंदु p है। जहां पर वैद्युत विभव ज्ञात करता है। बिंदु p की +q आवेश से दूरी (r-L)तथा -q आवेश से दूरी  (r+L) है। यदि इसके संगत विभव क्रमशः V₁ वा V₂ हो, तो

 +q आवेश के कारण बिंदु P पर वैद्युत विभव
            V₁ ₌ 1/4πε₀K. q /(r-L) वोल्ट 
-q आवेश के कारण बिंदु P पर वैद्युत विभव
            V₂ ₌ 1/4πε₀k. q/(r+L) वोल्ट 
किसी वैद्युत द्विध्रुव के अक्ष पर स्थित किसी बिंदु पर वैद्युत विभव का सूत्र स्थापित कीजिए?

चूँकि  वैद्युत द्विध्रुव एक आदिश राशि है। अतः वैद्युत द्विध्रुव के कारण बिंदु P पर  परिणामी वैद्युुुत विभव V दोनो विभवो  V₁ तथा  V₂ के बीजगणितीय योग के बराबर होगा।

अतः बिंदु P पर परिणामी वैद्युत विभव

  V= V₁+ V₂  

          =1/4πε₀k.q/(r-L)  – 1/4πε₀k. q/(r+L)  

          =  q/4πε₀[( 1/r-L) – 1/(r+L)]   

          = q/4πε₀ [(r+L) – (r-L)/(r² – L²)]

          = 1/4πε₀k . 2qL/(x² – L²)  वोल्ट 

        परंतु  2qL=P रखने पर  

         V= 1/4πε₀K × P/(r² – L²) वोल्ट 

यदि L का मान r के सापेक्ष बहुत कम हो (L<< r) तो L² का मान r² की तुलना मे नागण्य माना जा सकता है।

अतः वैद्युत द्विध्रुव के कारण बिंदु P पर वैद्युत विभव

V = 1/4πε₀k  × P/r² वोल्ट

यदि माध्यम निर्वात अथवा वायु हो तो K=1

अतः वैद्युत द्विध्रुव के कारण बिंदु P  पर वैद्युत विभव

V= 1/4πε₀ ×  P/r² वोल्ट  

प्रश्न 4.  वैद्युत विभव से क्या तात्पर्य है?

उत्तर-  किसी बिंदु आवेश q को अनंत से वैद्युत क्षेत्र के भीतर किसी बिंदु तक लाने मेंं क्षेत्र के विरुद्ध किए गए कार्य w तथा बिंदुुु आवेश q के  अनुपात को उस बिंदु का वैद्युत विभव कहते हैं। इसे v से प्रदर्शित करते हैं।

वैद्युत विभव         v =  w/q

प्रश्न 5. +5.0 x 10⁻⁷ कूलाम तथा -5.0 x 10⁻⁷ कूलाम के दो बिंदु आवेशों के बीच की दूरी 1.0 सेमी है। इन आवेशों से बने द्विध्रुव की अक्ष पर केंद्र से 50 cm की दूरी पर स्थिर बिंदु पर विद्युत विभव की गणना कीजिए? 

उत्तर-  दिया है। 

           q = 5.0×10⁻⁷ कूलाम

2L=1.0 सेमी=1.0×10⁻² मीटर

द्विध्रुव की अक्ष  पर वैद्युत विभव   V = 1/4πε₀ p/r²

=9.0×10⁹xqx2L/r²

=                   9.0×10⁹x5.0x10⁻⁷x1.0x10⁻²/(50×10⁻²)²

=180 वोल्ट

प्रश्न 7. विभवमापी के 10 मीटर लंबे तार के सिरों के बीच 1.0 वोल्ट का विभवांतर लगाया जाता है तार में विभव प्रवणता तथा विद्युत क्षेत्र का मान लिखिए?

उत्तर- दिया है

                ∆x=10 मीटर
                ∆v=1.0 वोल्ट
                 E=?

                

प्रश्न 7 –  10⁷ मीटर सेकंड की चाल से गतिमान इलेक्ट्रॉन की गतिज ऊर्जा इलेक्ट्रॉन बोल्ट(ev) में ज्ञात कीजिए (m=9.1×10⁻¹ किग्रा)

उत्तर:   गतिज ऊर्जा k=1/2 mv² 

               = 1/2×9.1×10⁻¹³ ×(10⁷)² जूल    

9.1×10⁻¹³×10⁻¹⁴/2×1.6×10⁻¹⁹

               = 284 ev

प्रश्न 8. एक इलेक्ट्रॉन को 15×10³ वोल्ट विभवांतर से त्वरित किया जाता है इसकी उर्जा में वृद्धि जूल तथा इलेक्ट्रॉन वोल्ट में ज्ञात कीजिए यह कितनी चाल प्राप्त कर लेगा? (e=1.6×10⁻¹⁹) m=9.0×10⁻¹³ किग्रा)

उत्तर: v=15×10³ वोल्ट

         q=e =1.6×10⁻¹⁹ कूलाम

          K=?

इलेक्ट्रॉन की गतिज ऊर्जा में वृद्धि

                           K=q×v(=1.6×10⁻¹⁹) × (15×10³)

                         =2.4×10⁻¹⁵ जूल

इलेक्ट्रॉन वोल्ट में उर्जा वृद्धि K=15×10³ ev

      

प्रश्न 9- +10μc तथा -10μc के दो बिंदु आवेशों के बीच की दूरी 1 मीटर है, इनके मध्य बिंदु पर विद्युत विभव ज्ञात करें

उत्तर- दिया है

        q₁ = +10μc , q₂=  -10μc

         r= 1 मीटर

         V=?

+10μc के कारण विद्युत विभव v₁ =1/4πε₀ q/r                                    = 9×10⁹×10×10⁻⁶/0.5 वोल्ट

       -10μc के कारण विद्युत विभव V₂= -1/4πε₀ q/r                                 =9×10⁹×10×10⁻⁶ 0.5 वोल्ट

         अतः मध्य बिंदु पर परिणामी वैद्युत विभव

                       V= V₁+V₂=0

आप यहां पर class 12 physics iimportant question 2022 पढ़ रहे है, जो आपको बोर्ड परीक्षा 2022 में सफलता दिलाएंगे

प्रश्न 10-  किसी परावैद्युत की सामर्थ्य तथा भंजक विभवांतर को परिभाषित कीजिए।

उत्तर: यदि किसी परावैद्युत को संधारित्र की प्लेटों के बीच रखकर संधारित्र पर एकत्रित आवेश की मात्रा को लगातार बढ़ाया जाए तो परावैद्युत के भीतर वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता लगातार बढ़ती जाती है, और एक ऐसी स्थिति आ जाती है जबकि परावैद्युत अणुओ की बाह्य कक्षा के इलेक्ट्रॉन निकल जाते हैं। और वे मुक्त इलेक्ट्रॉन की भांति घूमने लगते हैं। अर्थात परावैद्युत का रोधन टूट जाता है। तथा यह परावैद्युत न रहकर चालक बन जाता है। यह घटना परावैद्युत का भंजन कहलाती है।  अतः किसी परावैद्युत पदार्थ का वह महत्तम वैद्युत क्षेत्र जिसे कोई परावैद्युत पदार्थ बिना वैद्युत भंजक के सहन  कर सकता है। परावैद्युत की  सामर्थ्य कहलाती है।

” किसी पदार्थ के  सिरों के बीच उत्पन्न वह महत्तम विभवांतर जिसे परावैद्युत बिना वैद्युत भंजक के सहन कर सकता है, उस परावैद्युत का भंजक विभवांतर कहलाता है। किसी माध्यम के लिए परावैद्युत सामर्थ्य तो नियत रहती है, परंतु भंजक विभवांतर उसकी मोटाई पर निर्भर रहता है।

अतः भंजक विभवांतर= परावैद्युत सामर्थ्य× मोटाई   

प्रश्न 11-   संधारित्र से क्या तात्पर्य है?

उत्तर: किसी भी प्रकार के दो ऐसे चालकों का युग्म में है जो कि एक दूसरों के समीप हो जिन पर बराबर व विपरीत आवेश हो तथा जिसकी एक प्लेट पृथ्वी से दूर हो। 

प्रश्न 12 – संधारित्र के उपयोग लिखिए।

उत्तर: उपयोग
(1) आवेश का संचय करने में।
(2) ऊर्जा का संचार करने में।
(3) विद्युत उपकरणों में।
(4) इलेक्ट्रॉनिक परिपथो  मे।
 (5) वैज्ञानिक अध्ययन में। 
प्रश्न 13- परावैद्युत पदार्थ से आप क्या समझते है?  
(1)जर्मेनियम (2) अभ्रक (3) कार्बन, मैं से कौन सा परावैद्युत है?

उत्तर- वे पदार्थ जिनके अणुओं में इलेक्ट्रॉन, नाभिक के साथ दृढ़तापूर्वक बंधे होते हैं। परावैद्युत पदार्थ कहलाते हैं। जैसे कांच, मोम, अभ्रक आदि । जर्मेनिराम, अभ्रक, कार्बन में से अभ्रक परावैद्युत पदार्थ है।

प्रश्न 14-  संधारित्र की प्लेटों के बीच परावैद्युत भरने अथवा उपयोग से धारिता क्यों बढ़ जाती है।

उत्तर: आवेशित संधारित प्लेटों के बीच परावैद्युत माध्यम भरने से उसके अणु  ध्रुवित हो जाते हैं। तथा मध्यम के अंदर एक वैद्युत क्षेत्र मुख्य वैद्युत क्षेत्र की विपरीत दिशा में उत्पन्न हो जाता है। इस कारण दोनों प्लेटों के बीच वैद्युत क्षेत्र की तीव्रता कम हो जाती है।  तीव्रता कम होने के कारण प्लेटों के बीच उत्पन्न विभवांतर कम हो जाता हैं। विभवांतर के कम होने से संधारित की धारिता बढ़ जाती है।

प्रश्न 15- धातु के दो गोलों के व्यास 12 सेमी तथा 8 सेमी हैं इन्हें सामान विभव तक आवेशित किया गया है, मोलो के पृष्ठ घनत्वों का अनुपात ज्ञात कीजिए?

उत्तर: 0₁/0₂=R₁/R₂=8/12=2/3

प्रश्न 16- किसी आवेशित चालक के चारों ओर परावैद्युत पदार्थ रखने पर उसके विभव तथा धारिता पर क्या प्रभाव पड़ता है?

उत्तर: किसी आवेशित चालक के चारों ओर k परावैद्युतांक वाला पदार्थ रखने पर उसका विभव V से घटकर V/K रह  जाता है तथा धारिता C से बढ़कर kc हो जाती है।

17 प्रश्न: M,K,S,A पद्धति मैं R त्रिज्या के धातु के खोखले गोले की धारिता का सूत्र लिखिए?

(अथवा) विलगित गोलीय चालक की धारिता का सूत्र लिखें?

उत्तर: R त्रिज्या के खोखले गोले की धारिताC=4πε₀ R कैरड।

18 प्रश्न: संधारित्र के साधारणता प्रयुक्त होने वाली किन्हीं दो परावैद्युत पदार्थ के नाम लिखें?

उत्तर: अभ्रक, मोम, कागज।

Mp board class 12th physics imp Question 2022 download pdf आपने आज के इस पोस्ट में पढ़ा।

 

 इनको  भी  पढ़ें —

1. पाठ 1 वैधुत आवेश तथा क्षेत्र ( imp short question exam 2022 )

2. पाठ 1 वैधुत आवेश तथा क्षेत्र ( imp LONG question exam 2022 )

3. पाठ 2 वैधुत विभव तथा धारिता ( imp short question exam 2022 )

4. पाठ 2 वैधुत विभव तथा धारिता ( imp Long question exam 2022 ) part 1

5. पाठ 2 वैधुत विभव तथा धारिता ( imp Long question exam 2022 ) part 2

You may also like

Leave a reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *