मप्र में पढ़ाई जाएंगी मराठी बंगाली व अन्य भाषाएं – state language in Mp school

प्रदेश के शासकीय स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थी अब बहुभाषी बनेंगे, दरअसल शिक्षा विभाग नए सत्र से नई शुरूआत करने जा रहा है। इसके तहत अब सरकारी स्कूलों में हिंदी, अंग्रेजी भाषा के अलावा तेलगु, उड़िया, बंगाली, मराठी, पंजाबी जैसे अन्य राज्यों की भाषाएं भी सिखाई जाएगी। अधिकारियों इसका उद्देश्य देश में भेदभाव की भावनाओं को खत्म करना है। यह देश का पहला राज्य है जहां इस तरह की पहल की जा रही है।

Join

Table of Contents

मप्र में पढ़ाई जाएंगी मराठी बंगाली व अन्य भाषाएं – state language in Mp school

इस योजना को लागू करने के लिए प्रदेश के 52 जिलों के 53 स्कूलों चयन किया जा चुका है। जिसमें अन्य राज्यों की भाषाओं में भी पढ़ाई कराई जाएगी। विद्यार्थियों को अपनी रूचि अनुसार भाषा का चयन कर सकेंगे। ज्ञात हो कि प्रदेश के सरकारी स्कूलों में निजी स्कूलों की तरह सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए सीएम राइज स्कूल की योजना संचालित हो रही है। जिसके अंतर्गत प्रदेश में 360 सर्वसुविधायुक्त स्कूलों का निर्माणकार्य किया जा रहा है।

state language in Mp school
state language in Mp school

अगले चरण में राष्ट्रीय भाषाओं की होगी शुरुआत

शिक्षा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक देश में विभिन्न भाषाओं की योजना सफल होने के बाद इन्हीं स्कूलों में दूसरा चरण शुरू किया जाएगा। जिसमें अन्य देश की भाषाओं को शामिल किया जाएगा। इसका प्रारूप तैयार कियाजा रहा है। इन बहुभाषी के अलावा इन स्कूलों में योग, कला और संस्कृति आदि विषयों की पढ़ाई कराई जाएगी। इसके अलावा 8 विभिन्न तरह कीलैब बनाईजाएगी।

वर्तमान शिक्षकों को ही किया जाएगा प्रशिक्षित

इस संबंध में यह पूछे जाने पर कि इन बहुभाषी चयनित विद्यालयों में विभिन्न भाषाओं को पढ़ाने के लिए शिक्षकों की व्यवस्था कैसे होगी। जेडी राममोहन तिवारी ने बताया कि वर्तमान में जो शिक्षक हैं, हम उन्हें ही प्रशिक्षण देंगे। साथ ही शिक्षकों को संबंधित भाषा के स्थानीय शिक्षक जो जिस प्रांत के हैं, उनसे टिप्स लेने के लिए ऑन लाइन सेवा भी उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने बताया कि पहले चरण में भारतीय भाषाओं के ज्ञान के बाद अगले चर ण में विदेशी भाषाओं को भी सिखाया जाएगा। प्रदेश के सरकारी स्कूलों में विभिन्न राज्यों की भाषा की कार्ययोजना विद्यार्थियों को बहुआयामी बनाने में सहायता करेगी।

यह भी जानें

बोर्ड परीक्षा में उत्तरपुस्तिका फाड़ने वाले आरोपी को सजा : बोर्ड परीक्षा की कॉपी फाड़ने के मामले में विजयपुर न्यायालय ने शुक्रवार को फैसला सुनाते हुए आरोपी को एक साल की सजा के साथ 500 रुपये के अर्थदंड से दंडित किया है। मामले में शासन की और से पैरवी लोक अभियोजन अधिकारी पूजा गुप्ता ने की। मामले के अनुसार 5 मार्च 2016 को परीक्षा केंद्र शा. उ. मा. वि. विजयपुर पर रामवरन पुत्र दशरथ कुशवाह पेड़ के पीछे नकल करते पकड़ा गया था। उड़नदस्ते ने जब उसे पकड़ा तो उसने उत्तर पुस्तिका  फाड़ दी। इस पर आरोपी के खिलाफ विजयपुर थाने में मामला दर्ज किया गया। पुलिस ने प्रकरण न्यायालय में पेश किया। इस मामले में 6 साल चली सुनवाई के बाद शुक्रवार आरोपी को दोषी मानते हुए सजा सुनाई गई।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

“बोर्ड परीक्षा के लिए TIPS & TRICKS के लिए यहाँ पर क्लिक करें। ”

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE