School Bag Policy 2023: भारी-भरकम स्कूल बैग का झंझट खत्म, सरकार की नई पॉलिसी लागू

School Bag Policy 2023: प्रदेश में नई शिक्षा नीति के लागू होने के साथ ही स्कूल पढ़ने वाले बच्चों के लिए कई तरह के नियमों में बदलाव किया जा रहा है। यह नियम बच्चों की पढ़ाई और उनके हित के लिए बनाए जा रहे हैं ताकि शिक्षा के गुणवत्ता के बढ़ने के साथ बच्चों पर पढ़ाई का बोझ कम से कम बना रहे और वे पढ़ने के साथ-साथ नई चीजों को सीखें। स्कूलों में पढ़ने वाले बच्चों के लिए नई School Bag Policy 2023 बनाई जा रही है।

जिसके तहत बच्चों को अब अपनी पीठ पर स्कूल के बस्तों का भारी बोझ नहीं उठाना पड़ेगा। साईं देखा जाता है कि छोटी-छोटी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे भारी भरकम बेग को अपने कंधों पर लादे रहते हैं। यह शिक्षा कम और बच्चों का शोषण ज्यादा लगता है। इसी चीज को देखते हुए School Bag Policy 2023 को लागू किया जा रहा है ताकि बच्चों के लिए पढ़ाई बोझ न बनकर एक अनुभव और हसीं खेल जैसा आसान रहे। 

MP Board 8th Class Math Paper Leak

MP Board 10th 12th Result Update

MP Board 5th Result

MP Board Result Date & Time

MP Board 10th 12th Result

Table of Contents

Join

School Bag Policy 2023

स्कूल जाने वाले छोटे बच्चों को अब अपने कंधों पर भारी बस्तों को ढोना नहीं पड़ेगा क्योंकि भारत सरकार द्वारा School Bag Policy 2023 को तैयारी किया जा रहा है। School Bag Policy 2023 के अनुसार अब बच्चों को अपने बैग-बस्तों में कॉपियों के बोझ को लेकर नहीं चलना पड़ेगा। स्कूल शिक्षा नीति के नए नियमों के तहत बच्चों के वजन के अनुसार उनके बस्तों का वजन निर्धारित किया गया है।

प्राइमरी क्लासमेट पढ़ने वाले छोटे बच्चों को अपने साथ बैग बसे ले जाने की जरूरत नहीं है जबकि पहले और दूसरी कक्षा में पढ़ रहे बच्चे जिनका वजन 16 से लेकर 22 किलो के बीच है उन्हें डेढ़ से 2 किलों का बस्ता ही ले जाना है। नई स्कूल शिक्षा नीति में बड़े बच्चों के बाग का वजन भी निर्धारित किया गया है जिसके अनुसार ही उन्हें अब स्कूलों में कॉपी किताब ले जाना है। 

School Bag Policy 2023 Overview

 

TopicDetails
ArticleSchool Bag Policy 2023
Category New Education Policy 
Rule applicable forNursery to Class 12th

 

School Bag Weight Policy

नेशनल स्कूल बैग पॉलिसी के अनुसार प्राइमरी क्लास में पढ़ने वाले बच्चों को बैग नहीं ले जाना है, जबकि पहले और दूसरी कक्षा में पढ़ रहे बच्चों को अधिकतम 2 किलो का वजनी बैग ले जा सकते हैं। वही कक्षा छठी सातवीं और आठवीं में पढ़ने वाले बच्चे जिनका वजन 20 से 30 किलो है, वह अधिकतम दो से तीन किलो का बैग अपने साथ स्कूल ले जा सकते हैं।

लेकिन अगर इन कक्षाओं में पढ़ने वाले बच्चों का वजन 25 से लेकर 40 किलो के बीच है, तो वह अपने साथ ढाई किलो से लेकर 4 किलो तक का वजनी बैग ले जा सकते हैं। कक्षा नवी से लेकर 12वीं तक पढ़ने वाले बच्चों के लिए स्कूल बैग का वजन ढाई किलो से लेकर 5 किलो तक का हो सकता है। जो बच्चे नवी दसवीं कक्षा में पढ़ते हैं, वे ढाई किलो से लेकर चार या पांच किलो का बैग अपने साथ ले जा सकते हैं। वहीं 11वी या 12वी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चे स्कूल 3.5 किलों से 5 किलों का बैग ले जा सकते हैं।

 

School Bag Policy
School Bag Policy

 

National Education Policy 2023

सरकार द्वारा नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति को लॉन्च किया गया है।  यह नीति देश के स्कूल और कॉलेज के लिए तैयार की गई है। राष्ट्रीय शिक्षा नीति के अनुसार स्कूल और कॉलेज की शिक्षा पद्धति में कई बड़े बदलाव किए गए हैं ताकि देश के स्कूल और कॉलेज की शिक्षा की गुणवत्ता को बढ़ाया जा सके, और देश के युवाओं के लिए एक सुनहरे भविष्य को गढ़ा जा सके।

पूर्व की शिक्षा नीति के अनुसार 10+2 पैटर्न को फॉलो किया जाता था, लेकिन अब 5+3+3+4 का पालन किया जाएगा। नई शिक्षा नीति के चलते बच्चे आसानी से शिक्षा ग्रहण कर पाएंगे। नेशनल एजुकेशन पॉलिसी के तहत अब बीएड की अवधि को बढ़ाकर 4 साल कर दिया गया है। हालांकि इस नीति के भीतर मेडिकल और लॉ को पढ़ाई शामिल नहीं है। 

National Education Policy 2023 Highlights

  • शिक्षा नीति के अनुसार विद्यालय को यह सुनिश्चित करना होगा कि उनके द्वारा दिए जा रहे मिड डे मील की गुणवत्ता बेहतर हो।
  • इसके साथ ही विद्यालयों को अपने परिसर में शुद्ध पानी की व्यवस्था भी करनी होगी।
  • के चलते विद्यार्थियों को अपने साथ टिफिन और पानी की बोतल लाने की आवश्यकता नहीं पड़ेगी।
  • प्राइमरी कक्षा में पढ़ने वाले बच्चों से लेकर बड़ी कक्षा के बच्चों के वजन के अनुसार उनके स्कूलों के बाग का भार तय किया जाएगा ताकि उन्हें भारी बैग का बोझ ना उठाना पड़े।
  • नहीं शिक्षा नीति के चलते नर्सरी से दूसरी कक्षा तक पढ़ने वाले बच्चों को होमवर्क नहीं दिया जाएगा।
  • छोटे बच्चों को बहुत समय तक बैठने की आदत नहीं होती है इसलिए कक्षा तीसरी से लेकर चौथी और पांचवी के बच्चों को हर हफ्ते में केवल 2 घंटे का होमवर्क ही दिया जाएगा।
  • कक्षा छठी से लेकर आठवीं के बच्चों को प्रत्येक दिन एक घंटे और नवी से लेकर 12वीं तक के बच्चों को हर दिन 2 घंटे का होमवर्क दिया जाएगा।

FAQs related to School Bag Policy 2023

नई शिक्षा नीति के अनुसार B.Ed की डिग्री कितने साल की कर दी गई है?

नई शिक्षा नीति के अनुसार B.Ed की डिग्री 4 साल की कर दी गई है। 

नई शिक्षा नीति में 10+2 पैटर्न की जगह कौन सा नया पैटर्न फॉलो किया जाएगा?

नई शिक्षा नीति में 10+2 पैटर्न की जगह अब 5+3+3+4 पैटर्न को फॉलो किया जाएगा।

Join Whatsapp GroupClick Here
PH Home Pagephysicshindi.com