ओमिक्रॉन : WHO ने चेताया, 3 दिन में दोगुने हो रहे ओमिक्रॉन के मामले

ओमिक्रॉन बहुत तेजी से फैल रहा है। चिंताकी बात यह भी है कि ओमिक्रॉन उन देशों में तेजी से फैल रहा है, जहां आबादी में रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा है। संगठन ने कहा- जिस गति से यह वैरिएंट फैल रहा है उसे देखते हुए मास्क, सैनिटाइजेशन और भीड़ से बचने जैसे उपाय करते रहने कीजरूरत है। नीदरलैंड मेंलॉकडाउनलगाः नीदरलैंड्समें ओमिक्रॉन के बढ़ते खतरे के चलते रविवार को लॉकडाउन लगा दिया गया है।पीएम मार्क रूट नेशनिवार शाम लॉकडाउन की घोषणाकी। नया वैरिएंट ओमिक्रॉन दुनिया के 89 देशों में फैल चुका है और कम्युनिटी ट्रांसमिशन के चलते इसके केस: दिनों में दोगुनेहोरहेहैं।विश्वस्वास्थ्य संगठन ने यह जानकारी दी है। डब्लयूएचओ ने कहा- इस बात का प्रमाण मिलाहै कि डेल्टाकी तुलना में

महाराष्ट्र में 6 नए संक्रमित मिले, देश में अब तक कुल 153 केस

देश में रविवार को ओमिक्रॉन के 10 मरीज मिले हैं, जिसमें महाराष्ट्र में 6 वगुजरात में 4 मरीजों में संक्रमण की पुष्टि हुईहै।गुजरात में ओमिक्रॉन संक्रमितों की संख्याअब 10 हो गई है।गुजरात में मिले 2 संक्रमित ब्रिटेन व एक दुबई से लौटी थी।देश में अब तक मिलेओमिक्रॉन संक्रमितों की कुल संख्या 153 होगईहै।गौरतलब हैं कि अबतक सबसे ज्यादा 54 मरीज महाराष्ट्र में पाएगएहैं। ओमिक्रॉन को लेकर भारत का डर 113-14 लाख कोरोना केस रोज आने की आंशका नीति आयोग ने जाताई है। – 2022 जनवरी में आईआईटी कानपुर ने तीसरी लहर की चेतावनी दी है। 40 फीसदी आबादी का टीकाकरण नहीं हुआहै। ऐसे लोगों को ओमिक्रॉन से ज्यादा खतरा है। -16 दिनों में ही भारत के 12 राज्यों में ओमिक्रॉन ने अपने पैर पसार लिए। – डेल्टाकी तुलना में ओमिक्रॉन से रीइफेक्शन काखतरा 5 गुना ज्यादा। -ओमिक्रॉनपर मौजूदा वैक्सीनों के बेअसर होने की भी आशंका है।

Join

ओमिक्रॉन को लेकर भारत का डर

omicron cases in india today update
omicron cases in india today update
  •  नीति आयोग ने 113-14 लाख कोरोना केस रोज आने की आंशका आंशका जाताई है।
  • जनवरी 2022 में आईआईटी कानपुर ने तीसरी लहर की चेतावनी दी है।
  • 40 फीसदी आबादी का टीकाकरण नहीं हुआहै। ऐसे लोगों को ओमिक्रॉन से ज्यादा खतरा है।
  • 16 दिनों में ही भारत के 12 राज्यों में ओमिक्रॉन ने अपने पैर पसार लिए |
  • डेल्टा की तुलना में ओमिक्रॉन से रीइफेक्शन काखतरा 5 गुना ज्यादा।
  • ओमिक्रॉनपर मौजूदा वैक्सीनों के बेअसर होने की भी आशंका है।

इसी तरह की सभी खबरों के लिए आप हमारी वेबसाईट physicshindi.com पर रेगुलर विज़िट करते रहिए तथा इस पोस्ट को शेयर करना न भूलें अपने दोस्तों के साथ।