पुरानी पेंशन के लिए कर्मचारी संघों की फिर बैठक अब 13मार्च को शंखनाद

भोपाल (आरएनएन)। पुरानी पेंशन के लिए कर्मचारी संगठनों की एकजुटता लगातार बढ़ रही है। सोमवार को इनकी फिर बैठक हुई जहां निर्णय लिया गया कि अब अप्रैल में नहीं मौजूदा माह की 13 मार्च को भोपाल में विशाल प्रदर्शन किया जाएगा। मध्य प्रदेश अधिकारी कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के बैनर तले यह आंदोलन होगा। इसके लिए सोमवार को आयोजित बैठक में मोर्चा के अध्यक्ष जितेंद्र सिंह ने कहा कि पूरे प्रदेश का कर्मचारी पेंशन के लिए एकजुट रहें। जब तक एकजुटता नहीं होगी तब तक हम लाभ नहीं ले पाएंगे। नेशनल मूवमेंट फॉर पेंशन स्कीम के अध्यक्ष परमानंद देवरिया ने कहा कि हमारे संगठन के प्रयास से सभी लोग एकजुट हो रहे हैं। यह अच्छी बात है।

उन्होंने कहा कि 13 मार्च को हमारी भीड़ ऐसी होना चाहिए कि सरकार को भी इस गंभीर मुद्दे पर कुछ ना कुछ  निर्णय लेना पड़े। बैठक संबोधित करते हुए पेंशन की लड़ाई लड़ने वाले दिग्विजय सिंह ने कहा कि राजस्थान जैसे राज्यों में जब पेंशन बहाली हुई है तो मध्यप्रदेश में भी हो सकती है। बैठक में शामिल होने पहुंचे शासकीय अध्यापक संघ के अध्यक्ष राकेश दुबे ने कहा कि सभी कर्मचारी एकता के साथ पूरी ताकत से इस मुद्दे पर लड़े। मध्यप्रदेश में पुरानी पेंशन बहाली को लेकर कर्मचारी संगठन 13 मार्च को कलियासोत ग्राउंड नेहरू नगर भोपाल में प्रदर्शन करेंगे और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को ज्ञापन सौंपेगे। सोमवार को कर्मचारी संगठनों ने प्रेसवार्ता कर जानकारी दी।

इसके लिए सभी को सरकार पर दबाव बनाना होगा। मोर्चा के प्रवक्ता सुभाष शर्मा ने बताया कि यह आंदोलन कलियासोत डैम पर होगा। इस बैठक में मनोहर दुबे जितेन्द्र शाक्य राकेश नायक हीरानंद नरवरिया राकेश पांडे सतीश त्यागी सहित अनेक पदाधिकारी मौजूद थे।पुरानी पेंशन बहाली संघ के प्रदेश अध्यक्ष दिग्विजय सिंह चौहान ने कहा कि मध्यप्रदेश में 1 जनवरी 2005 से नियुक्त होने वाले कर्मचारियों के लिए पुरानी पेंशन व्यवस्था बंद कर नई पेंशन योजना लागू की है। इसके तहत कर्मचारियों को सेवानिवृत्त होने पर प्रतिमाह 800 से 1 हजार तक पेंशन मिलती है। कर्मचारी संगठन सरकार से लगातार पुरानी पेंशन योजना लागू करने की मांग कर रहे है। कर्मचारियों का कहना है कि नई पेंशन में बुढ़ापे में कर्मचारियों की आजीविका चलाना मुश्किल हो गया है।

Join

मध्यप्रदेश पुरानी पेंशन लागू करने की मांग:-

प्रेसवार्ता में कर्मचारी संगठनों ने कहा कि नई पेंशन स्कीम में कर्मचारी के कुल वेतन का 10% कटोत्रा किया जाता है तथा शासन की ओर से 12% राशि जमा की जाती है । इस राशि को शेयर मार्केट में लगाया जाता है जिसके चलते कर्मचारियों का भविष्य शेयर मार्केट के ऊपर निर्भर हो गया है।  इस प्रकार रिटायरमेंट तक  शेयर मार्केट में जमा कुल राशि का रिटायरमेंट होने पर 60% कर्मचारी को नगद दिया जाता है तथा शेष 40% जमा राशि के ब्याज से प्राप्त राशि को पेंशन के रूप में कर्मचारी को प्रदान किया जाता है जो ऊंट के मुंह में जीरा के समान है।

Old pension scheme 2022 mp
Old pension scheme 2022 mp

इस  प्रेसवार्ता में प्रदेश अध्यक्ष परमानंद डेहरिया, पटवारी संघ के प्रदेश अध्यक्ष उपेंद्र सिंह बघेल, पंचायत सचिव संगठन के प्रदेश अध्यक्ष दिनेश चंद्र शर्मा, अध्यापक संगठन के  प्रांतीय शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष मनोहर प्रसाद दुबे, अध्यापक कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष राकेश नायक, शासकीय अध्यापक संघ के प्रदेश अध्यक्ष राकेश दुबे, आजाद अध्यापक सघ की प्रदेश अध्यक्ष शिल्पी सीवान , T.W.T.A.के प्रदेश अध्यक्ष डी.के सिंगार,  एच एन  नरवरिया, सुरेश यादव अजीत पाल यादव आदि कर्मचारी एवं अध्यापक नेता भी प्रेसवार्ता में शामिल थे।

पुरानी पेंशन बहाली को लेकर प्रदेश शिक्षक संघ ने वाहन रैली निकाल कर ज्ञापन सौंपा:-

कर्मचारी संगठन ने कहा कि  यदि मध्यप्रदेश शासन शीघ्र ही पुरानी पेंशन व्यवस्था बहाल करने संबंधी कोई कदम नहीं उठाती है तो पूरे मध्यप्रदेश के कर्मचारी आगामी 13 मार्च को कलियासोत ग्राउंड नेहरु नगर भोपाल में प्रदर्शन कर पुरानी पेंशन बहाली की मांग करेंगे तथा मुख्यमंत्री को ज्ञापन सौंपेंगे। मध्य प्रदेश शिक्षक संघ प्रदेश इकाई के आह्वान पर प्रदेश भर के विकासखंड मुख्यालयों पर शिक्षकों की तीन ज्वलन्त समस्याओं के समाधान के लिए 7 मार्च सोमवार को उत्कृष्ट विद्यालय तराना मैं एकत्रित हुए।

वहाँ पर मध्य प्रदेश शिक्षक संघ तराना के अध्यक्ष भागीरथ मालवीय, माकड्रोन तहसील अध्यक्ष कैलाश गामी, पुरानी पेंशन संघ जिला अध्यक्ष लाल सिंह बाघमार, प्रदेश सचिव पुरानी पेंशन बहाली संघ डॉक्टर ईश्वर शर्मा बीआरसीसी, तहसील सचिव प्रदीप देवड़ा ने अपने-अपने विचार व्यक्त किए एवं सभी को संबोधित किया। उसके पश्चात वहां से विशाल वाहन रैली निकाल कर अनुविभागीय अधिकारी तराना को ज्ञापन दिया गया। जिसमें पुरानी पेंशन बहाली, सेवाकाल के अनुरूप पदनाम, 2006 व बाद में नियुक्त अध्यापक संवर्ग को नियुक्ति दिन के समाधान हेतु दिनांक से क्रमोन्नति केंद्र के समान वेतनमान एवं ग्रह भाड़ा भत्ता जैसी मांगों को रखा गया।

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE