कोविड के कारण परीक्षा न दे सके विद्यार्थियों को मिलेगा परीक्षा देने का मौका : डॉ. यादव

मध्य प्रदेश के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ. मोहन यादव ने कहा है कि प्रदेश के विश्वविद्यालयों के स्नातकोत्तर पाठ्यक्रम के प्रथम और तृतीय सत्र के ऐसे परीक्षार्थी, जो कोविड के कारण परीक्षा नहीं दे पा रहे हैं, उनका सत्र बर्बाद नहीं होने दिया जाएगा। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि ऐसे विद्यार्थी परीक्षा समाप्त होने के 10 दिन के भीतर परीक्षा दे सकेंगे। उन्होंने कहा कि कोरोना काल की चुनौतियों के बीच प्रदेश में उच्च शिक्षा का स्तर गुणवत्तापूर्ण बनाये रखा जाएगा, ताकि देश-विदेश में प्लेसमेंट के समय विद्यार्थियों की डिग्री कमतर न आंकी जाए। उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि शासकीय विश्वविद्यालयों के पास प्रदेश में काफी जमीन है। इसके बेहतर उपयोग और प्रदेश में पर्याप्त मात्रा में चिकित्सकों की उपलब्धता के लिए ग्वालियर, उज्जैन और भोपाल में मेडिकल कॉलेज खोलने का प्रस्ताव शासन को भेजा जाएगा। अपर मुख्य सचिव शैलेन्द्र सिंह ने बताया कि प्रदेश के हर विश्वविद्यालय में 10 से 15 रोजगारोन्मुखी पाठ्यक्रम शुरू किये जायेंगे, ताकि अधिक से अधिक छात्र पढ़ाई समाप्त होते ही आत्म-निर्भर बन सके।

डॉ. यादव मंगलवार को यहां मंत्रालय में उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक में सम्मलित हुए। बैठक में अपर मुख्य सचिव उच्च शिक्षा शैलेन्द्र सिंह, आयुक्त दीपक सिंह सहित वरिष्ठ अधिकारी मौजूद थे।

Mp college news today 2022
Mp college news today 2022

सीटें पूरी भरें

Join

श्री यादव ने निर्देश दिया कि प्रदेश में बीएड सहित उच्च शिक्षा के पाठ्यक्रमों में होने वाली काउंसलिंग में सीटें पूरी भरें। | यदि चयन के बाद विद्यार्थी प्रवेश नहीं लेते हैं, तो वेटिंग लिस्ट से सीट भरी | जाए। आवश्यकता पड़ने पर काउंसलिंग | के चरण भी बढ़ाएं संपूर्ण प्रक्रिया एक | हफ्ते में पूर्ण करे।

दूर करें पेंशन विसंगतियां

उच्च शिक्षा मंत्री ने कहा कि सेवानिवृत्त | होने वाले अधिकारी-कर्मचारियों की | पेंशन में आने वाली विसंगतिया दूर करें। | उनके प्रकरण सेवानिवृत्ति के 3 माह पूर्व ही पूर्ण कर लें। उन्होंने कहा कि प्रदेश के विद्यार्थियों को अधिक से अधिक | रोजगार मिल सके, इसके लिये प्रदेश में स्किल डेव्हलपमेंट यूनिवर्सिटी स्थापना करें। उन्होंने अधिकारियों से राजस्थान और हरियाणा में स्थापित यूनिवर्सिटी की जानकारी मंगवाने के निर्देश दिए।