MP College news- परीक्षा पैटर्न के बारे में उच्च शिक्षा मंत्री का फैसला – Full Details

मध्य प्रदेश शासन के उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों की बैठक में फैसला लिया है कि कॉलेजों में परीक्षाएं Offline ही होंगी। यदि कोई छात्र COVID-19 पॉजिटिव हो जाता है तो छात्र को 10 दिन बाद फिर से Exam देने बुलाया जाएगा।

कुलपतियों की बैठक के बाद उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन सिंह यादव की तरफ से बताया गया कि किसी भी University के कुलपति को Offline Exam कराने में कोई समस्या नहीं है। अगर कोई Students कोरोनावायरस से संक्रमित हो जाता है तो उसे मेडिकल सर्टिफिकेट देना होगा। औपचारिकता पूरी करने पर उसे 10 दिन बाद फिर से Exam देने का मौका दिया जाएगा।

उल्लेखनीय है कि पूरे एमपी में College स्टूडेंट द्वारा कोरोनावायरस की तीसरी लहर के बीच Offline परीक्षाओं का भारी विरोध किया जा रहा है। आज मंगलवार को भी Students ने उच्च शिक्षा मंत्री डॉक्टर मोहन यादव के सरकारी आवास के बाहर प्रदर्शन किया एवं Online परीक्षा की मांग की। सनद रहे कि रानी दुर्गावती विश्वविद्यालय एवं उच्च शिक्षा मंत्री के गृह नगर उज्जैन में स्थित विक्रम विश्वविद्यालय द्वारा परीक्षाएं स्थगित कर दी गई है।

बैठक की महत्वपूर्ण बातें

उच्च शिक्षा मंत्री डॉ मोहन यादव तथा मध्य प्रदेश के सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों के बीच हुई बैठक में मुख्य मुद्दा छात्रों की परीक्षाओं को लेकर रहा। जिसमें यह तय किया गया कि अब सभी छात्रों की कॉलेज की परीक्षाएं ऑफलाइन तरीके से आयोजित कराई जाएंगी। यानी कि अब कोई भी परीक्षा ऑनलाइन तथा ओपन बुक पद्धति के आधार पर नहीं कराई जाएगी। इस बैठक में यह फैसला कर लिया गया है कि सभी कॉलेज की परीक्षाएं ऑफलाइन तरीके से स्कूलों में ही आयोजित कराई जाएंगी। परीक्षाओं के दौरान अगर कोई छात्र कोरोना से संक्रमित हो जाता है तो ऐसे छात्र को कोरोना संक्रमित होने का मेडिकल सर्टिफिकेट देना पड़ेगा तथा उसके 10 दिन पश्चात वह छात्र फिर द्वारा से उसी कॉलेज में ऑफलाइन तरीके से परीक्षा दे सकेगा। ऐसा फैसला इस बैठक में लिया गया