मध्यप्रदेश ताजा खबर

दिसंबर से ऑफलाइन क्लासेस लगाने वाले आईआईटी में अब ऑनलाइन क्लासेस | mp college guidline for online classes

दिसंबर से ऑफलाइन क्लासेस लगाने वाले आईआईटी में अब ऑनलाइन क्लासेस | mp college guidline for online classes

कोरोना की महामारी में आए नए वैरिएंट का असर शैक्षणिक संस्थाओं पर साफ पड़ता नजर आ रहा है। दिसंबर से ऑफलाइन क्लासेस शुरू करने वाले इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलाॅजी आईआईटी ने कोरोना की तीसरी लहर की संभावना को देखते हुए फिलहाल ऑनलाइन क्लासेस संचालित करने का निर्णय लिया है। अब आगे की स्थिति को देखते हुए ही विद्यार्थी को कक्षाओं में बुलाने का निर्णय लिया जाएगा।

mp college guidline for online classes

Join

राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र जैसे राज्यों में नए वैरिएंट ओमिक्रोन के मरीजों की पुष्टि हुई है। हालांकि अभी प्रदेश में कोई मरीज नहीं मिला है। आईआईटी के अनुसार उसने ऑफलाइन क्लासेस शुरू करने की पूरी तैयारी कर ली थी। क्लासेस में विद्यार्थयों को बैठाने और हाॅस्टल में रहते की व्यवस्था भी कर ली गई थी, लेकिन विद्यार्थयों के भविष्य के साथ किसी भी तरह की रिस्क नहीं लेने के कारण ऑनलाइन क्लासेस ही संचालित करने का निर्णय लिया है। जो विद्यार्थी होस्टल में आ चुके हैं, उन्हें भी कहा गया कि वे भीड़ वाली जगहों पर जाने से बचें। आईआईटी ने अपने प्रोफेसर्स, कर्मचारियों और अधिकारीयों से कहा है कि वह भी अपना बचाव करने के लिए हर संभीव प्रयास जारी रखें।

mp college guidline for online classes
mp college guidline for online classes

दिसंबर से ऑफलाइन क्लासेस लगाने वाले आईआईटी में अब ऑनलाइन क्लासेस

सुरक्षाकर्मियों को साफ निर्देश दिए गए हैं कि बाहर व्यक्ति को बिना मास्क और कोरोना गाइडलाइन के पालन के बिना अंदर नहीं आने दिया जाए। खासकर मैस की सुविधा में काम करने वाले कर्मचारियों को विशेष हिदायत दी गई है। यह लगातार तीसरा साल होगा, जब आईआईटी जैसे संस्थान में एडमिशन लेने वाले नए विद्यार्थी ऑफलाइन क्लासेस में पढ़ नहीं पाएंगे। कई विद्यार्थी ऐसे भी हैं, जो अभी तक घर पर हैं और परिसर में नहीं पहुंचे है। उन्हें भी अब घर पर रहकर ही पढ़ाई जारी रखनी होगी।

तीसरे साल भी ऑनलाइन क्लासेस नए वैरिएंट को देखकर लिया निर्णय

ओल्ड जीडीसी के बा दजीएसीसी-होलकर कैम्पस में भी प्रवेश के लिए वैक्सीन के दोनों डोज अनिवार्य

ओल्ड जीडीसी में एक महिला प्रोफेसर के कोरोना पाॅजिटिव पाए जाने के बाद अब दूसरे काॅलेजों ने भी सखती दिखाना शुरू कर दी है। इसके बाद होलकर साइंनस काॅलेज में और अब प्रदेश के सबसे बड़े अटलविहार बाजपेयी शासकीय आट्र्स एंड काॅमर्स काॅलेज ने कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए काॅलेजों के विद्यार्थियों को अनिवार्य रूप् से वैक्सीन के दोनो डोज के प्रमाण-पत्र जमा कराने के लिए कहा है।

अब दोनों डोज के सर्टिफिकेट जमा करने वाले को ही कैम्पस में प्रवेश दिया जाएगा। इसके लिए सभी विद्यार्थियों को गूगल फाॅर्म जारी कर वैक्सीन की जानकारी देने के लिए कहा गया है। जीएसीसी मैनेजमेंट के अनुसार विभिन्न कोर्सेस में करीब पांच हजार विद्यार्थी यहां अध्ययनरत हैं ऐसे में विद्यार्थी की सुरक्षा के साथ खिलवाड़ नहीं किया जा सकता है। सभी विद्यार्थियों को वैक्सीन लगवाने के लिए कहा गया है और जल्द इसकी जानाकरी देने के लिए कहा गया है। इस तरह की कोशिश शासकीय होलकर साइंस काॅलेज भी विद्यार्थी के दूसरे डोज के प्रमाण पत्र चैक कर रहा है। जिन विद्यार्थियों ने अब तब वैक्सीन नहीं लगाई हैं, उन्हे काॅलेज नहीं आने की सलाह दी जा रही है। होलकर साइंस काॅलेज में भी करीब पांच हजार विद्यार्थियों अध्ययन करते हैं इन दोनों काॅलेजों के होस्टल भी बन गए है। और कई विद्यार्थी इनमें रह रहे हैं। ऐसे में भीड़ न लगाने की सलाह बच्चों को दी जा रही है।

बाहरी व्यक्तियों से भी ली जा रही जानकारी

बाहरी व्यक्तियों से भी परिसर में प्रवेश के साथ वैक्सीन के दोनों डोज की जानकारी ली जा रही है और मास्क के बिना परिसर में प्रवेश नहीं दिया जा रहा है। सभी विद्यार्थियों को वैक्सीन लगवाने के लिए कहा गया है और जल्द इसकी जानाकरी देने के लिए कहा गया है। बाहर के शहरों के भी कई विद्यार्थी ने प्रवेश लिया है। इसके चलते सभी विद्यार्थियों को वैक्सीन प्रमाण पत्र भी मांगे गए हैं। इससे जागरूक भी होंगे और 100 परिषद विद्यार्थी को दोनों डोज भी लग सकेगी।

एमपी बोर्ड की सभी खबरों के लिए आप हमारी वेबसाईट physicshindi.com पर रेगुलर विज़िट करते रहिए तथा इस पोस्ट को शेयर करना न भूलें अपने दोस्तों के साथ।

अगर आप मार्कशीट में करेक्शन कैसे करें इसका पूरा प्रोसेस जानना चाहते है तो यहाँ पर क्लिक करें

You may also like

Comments are closed.