बोर्ड परीक्षा में शामिल होने वाले स्टूडेंट्स के लिए फुली वैक्सीनेट होना जरूरी नहीं – बड़ी खबर

एमपी बोर्ड की कक्षा 10वीं की परीक्षा 17 फरवरी और 12वीं की परीक्षा 18 फरवरी से शुरू हो रही है। पहले परीक्षा में शामिल होने वाले स्टूडेंट्स के लिए वैक्सीनेशन अनिवार्य करने की तैयारी थी। लेकिन करीब 40 फीसदी बच्चों का वैक्सीनेशन अब तक नहीं हो सका है और परीक्षा शुरू होने में मात्र छह दिन बचे हैं। इसको देखते हुए बच्चों के फुली वैक्सीनेट होने की अनिवार्यता खत्म कर दी गई है। पूर्व में वैक्सीनेशन की अनिवार्यता के चलते वह स्टूडेंट्स परेशान थे, जिन्हें वैक्सीन के दोनों डोज नहीं लगे हैं। एमपी बोर्ड की हेल्पलाइन पर भी इस संबंध में स्टूडेंट्स और उनके पैरेंट्स काल कर रहे थे। अब माध्यमिक शिक्षा मंडल ने स्पष्ट किया है कि बोर्ड परीक्षा में शामिल होने के लिए वैक्सीनेशन अनिवार्य नहीं है। माशिमं के अधिकारियों का कहना है कि सभी स्टूडेंट्स को परीक्षा में शामिल किया जाएगा।

Join

इतना ही नहीं, इस बार कोरोना के संदिग्ध और पॉजीटिव स्टूडेंट्स के लिए विशेष व्यवस्था की गई है। ऐसे स्टूडेंट्स के लिए परीक्षा केंद्रों में आइसोलेशन वार्ड बनाकर परीक्षा देने की व्यवस्था की गई है। इस बार दसवीं के लिए प्रदेश में 3861 और 12वीं के लिए 3586 एग्जाम सेंटर बनाए गए हैं। इस बार कोरोना संक्रमण को देखते हुए पिछले साल की अपेक्षा 300 सेंटर अधिक बनाए गए हैं। राजधानी में कुल 104 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। मंडल ने परीक्षा को लेकर न्यायालय में कैविएट दायर कर दी है। हर एग्जाम सेंटर के बाहर होगी लोहे की पेटी:- जानकारी के अनुसार, माशिमं ने इस बार परीक्षा केंद्रों के बाहर नकल सामग्री डालने के लिए लोहे की पेटी रखवाने की व्यवस्था की है। इसमें यदि कोई विद्यार्थी अनुचित  सामग्री लाता है, तो वह पेटी में स्वेच्छा से डाल सकेगा।

मॉडल स्कूल से सोमवार को वितरित किए जाएंगे प्रश्न पत्र:-

मॉडल हायर सेकंडरी स्कूल, टीटीनगर से सोमवार को जिले के लिए प्रश्न पत्र और गोपनीय सामग्री वितरित की जाएगी। परीक्षा केंद्राध्यक्ष और सहायक केंद्राध्यक्ष प्रश्न पत्र और गोपनीय सामग्री लेकर पुलिस के साये में रवाना होंगे। परीक्षा केंद्रों के नजदीकी में थानों में दो दिन में प्रश्न-पत्र और परीक्षा से ने जुड़ी गोपनीय सामग्री पहुंचा दी जाएगी। नकल रोकने 6 टीमें बनीं परीक्षा में नकल रोकने के लिए जेडी और डीईओ की तीन-तीन टीमें बनाई गई है। जेडी की टीम संभाग स्तर पर निरीक्षण करेगी। पहली टीम संभागीय संयुक्त संचालक राजीव तोमर की होगी। दूसरी धर्मेंद्र शर्मा, तीसरी कृष्णा परते के नेतृत्व में बनाई गई है। जिले में डीईओ नितिन सक्सेना के नेतृत्व में टीम होगी। दूसरी टीम कनक प्रसाद, तीसरी एके विजयवर्गीय की रहेगी। दोनों परीक्षाओं के मुख्य प्रश्न पत्रों के दौरान संवेदनशील और संदेहास्पद केंद्रों पर एक अधिकारी की स्थायी रूप से ड्यूटी लगाई जा रही है। कलेक्टर की टीम भी परीक्षा केंद्रों का निरीक्षण करेगी।

mp board students fully vaccination mendetory
mp board students  fully vaccination not mendetory

जिले में 13 अतिसंवेदनशील और 6 संवेदनशील केंद्र

राजधानी में 13 अतिसंवेदनशील और 6 संवेदनशील केंद्र हैं। अति संवेदनशील केंद्रों में शासकीय बालक कोटरा, शासकीय महात्मा गांधी भेल, कन्या उमावि बरखेड़ी,बालक स्टेशन, सुल्तानिया कन्या शाहजहांनाबाद, बालक उमावि बैरागढ़, शासकीय उमावि कोहेफिजा, शा. उमावि बागसेवनिया, शा. मॉडल हाईस्कूल फंदा, हाईस्कूल गड़ाकला बैरसिया, मॉडल स्कूल टीटी नगर, गायत्री विद्या मंदिर हाईस्कूल, ब्लू डे बोर्डिंग स्कूल रुनाहा बैरसिया । संवेदनशील केंद्रों में उमावि नजीराबाद, उमावि रूनाहा, उमावि ललरिया, हाईस्कूल इमलिया बैरसिया, चित्रांश विद्या निकेतन  नजीराबाद व हाईस्कूल धमर्रा शामिल हैं।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

“बोर्ड परीक्षा के लिए TIPS & TRICKS के लिए यहाँ पर क्लिक करें। ”

रोजाना टेस्ट देने के लिए यहाँ पर क्लिक करें

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE