अगले सत्र में बोर्ड का रिजल्ट सुधारने शुरू से करें प्रयास

प्रत्येक माह होगी शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा:-माध्यमिक शिक्षा मंडल की बोर्ड परीक्षा भले ही अंतिम चरण में हो, मगर कलेक्टर अनुराग वर्मा ने विभाग के अधिकारियों को अगले सत्र की तैयारी शुरू करने के निर्देश दिए हैं। गुरुवार को कलेक्टर अनुराग वर्मा ने शिक्षा विभाग, सर्व शिक्षा अभियान एवं डाइट के अधिकारियों की बैठक ली और कार्यों की समीक्षा की। इस दौरान सीईओ जिला पंचायत डॉ. परीक्षित राव, जिला शिक्षा अधिकारी सच्चिदानंद पांडेय, डीपीसी विष्णु त्रिपाठी, डाइट प्राचार्य नीरव दीक्षित, एडीपीसी गिरीश अग्निहोत्री, सहायक संचालक एनके सिंह सहित बीईओ, बीआरसीसी और बीएसी उपस्थित रहे। स्कूल शिक्षा विभाग के कार्यों की समीक्षा करते कलेक्टर और जिपं सीईओ। 98 प्रतिशत हुई मैपिंग:- जिला शिक्षा अधिकारी ने बताया कि जिले के छात्र-छात्राओं की 98.74 प्रतिशत मैपिंग की जा चुकी है। विभागीय अनुकम्पा नियुक्ति के 69 प्रकरण प्राप्त हुए, जिनमें 55 का निराकरण कर दिया गया है।

Join

शेष लंबित 14 प्रकरणों में कार्यवाही प्रचलित है। कोविड- 19 की अनुकम्पा नियुक्ति में 15 नियुक्ति आदेश जारी किए गए हैं। अपात्र होने से 4 आवेदन निरस्त किए गए हैं। लंबित पेंशन प्रकरण में 44 में से 36 का निराकरण किया जा चुका है। सीएम राइज के तहत जिले के 284 विद्यालयों का चयन हुआ है। जिसमें प्रथम फेज में 9 सीएम राइज विद्यालय स्वीकृत किए गए हैं। अध्यापकों का करें संविलियन:-सीईओ जिला पंचायत डॉ. राव ने डीईओ से संविलियन से वंचित अध्यापकों प्रकरणों को जानकारी दी और उन्हें तत्काल निराकरण करने के निर्देश दिए। डीईओ ने बताया कि संविलियन के लिए 434 वरिष्ठ अध्यापक में 421 और 2248 अध्यापक में 2158 तथा 5668 सहायक अध्यापक में से 5177 का संविलियन किया जा चुका है। शेष लंबित 13 वरिष्ठ अध्यापक, 102 अध्यापक, 537 सहायक अध्यापक का संविलियन मान्यता प्राप्त संस्थानों से डिग्री या प्रशिक्षण नहीं लेने अथवा विसंगतिपूर्ण दस्तावेज प्रस्तुत करने अथवा अन्य तकनीकी कारणों से लंबित है।

MP Board result 2022 result improvement news
MP Board result 2022 result improvement news

 

90 फीसदी से अधिक अंक या फिर शून्य मिलने पर दोबारा जाँची जाएँगी कॉपियाँ:-

बोर्ड की कक्षा दसवीं और बारहवीं की परीक्षाओं का मूल्यांकन कल से शुरू होने जा रहा है। मूल्यांकन करने वाले शिक्षकों को मंडल ने कुछ दिशा-निर्देश जारी किए हैं। इसमें 90 फीसदी से अधिक और शून्य अंक पाने वाले विद्यार्थियों की कॉपियों का दोबारा मूल्यांकन करने कहा गया है। साथ ही एक या दो अंक से विशेष योग्यता पाने वाले विद्यार्थियों की कॉपियों पर विशेष ध्यान देने कहा गया है।प्रवेश के बाद बाहर नहीं जा पाएंगे शिक्षक:- बोर्ड परीक्षाओं के मूल्यांकन के 13 सौ शिक्षकों का पंजीयन हुआ है। ये शिक्षक एक बार मूल्यांकन केन्द्र के भीतर प्रवेश करने के बाद बाहर नहीं जा पाएँगे।मूल्यांकन के दौरान विद्यार्थियों को हर स्टेप के नंबर देने कहा गया है। मूल्यांकनकर्ताओं को दसवीं की कॉपियों के लिए प्रति कॉपी 12 रुपए और बारहवीं के लिए 13 रुपए मिलेंगे। मूल्यांकन केन्द्रों पर धारा 144 लागू रहेगी।

एमपी बोर्ड 10वीं-12वीं की कापियों का मूल्यांकन 5 से, मई में घोषित हो सकता है रिजल्ट:-

मध्य प्रदेश में बोर्ड परीक्षा की कॉपियों का मूल्यांकन 5 मार्च से शुरू हो जाएगा। स्कूल शिक्षा विभाग ने इसकी तैयारियां पूरी कर ली हैं। एमपी बोर्ड ने परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन 7  करने के लिए शिक्षकों की टीम तैयार कर ली है। स्कूल शिक्षा विभाग के निर्देश के बाद 5 मार्च से कॉपियों का मूल्यांकन का काम शुरू होगा जो 28 फरवरी तक हो चुकी दोनों परीक्षाओं की कापियां चेक होंगी। इसके लिए विभाग ने शिक्षकों की एक टीम बनाई है, जो दो चरणों में कॉपियां चेक करेगी। मूल्यांकन करने वाले शिक्षकों को मंडल ने सबसे खराब और सबसे अच्छे अंक लाने विद्यार्थियों पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं। बोर्ड द्वारा पहले चरण में करीब 60 लाख कॉपियो का मूल्यांकन किया जाएगा। मार्च में होने वाले पेपरों की कापियां 16 मार्च से चेक की जाएंगी। खास बात ये है कि मूल्यांकन जिला स्तर पर किया जाएगा। सभी कॉपियों के चेक होने के बाद रिजल्ट तैयार होगा और जारी किया जाएगा। इस संबंध में बोर्ड ने आवश्यक दिशा-निर्देश जारी कर दिए गए हैं।

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE