प्रश्न बैंक पर निर्भर होना पड़ा महंगा – Mp board exam question bank

माध्यमिक शिक्षा मंडल मध्य प्रदेश द्वारा कक्षा 12वीं एवं 10वीं की परीक्षा प्रारम्भ हो चुकी हैं। विद्यार्थी पेपर देकर आते हैं और वह अपना अनुभव बताते हैं। आज जो विद्यार्थियों ने माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा जारी किए गए प्रश्न पत्र को लेकर अपनी बात रखी। विद्यार्थियों का कहना है कि हर साल माध्यमिक शिक्षा मंडल प्रश्न बैंक जारी करता है जिसमें दावा किया जाता है कि 70 से 80 प्रतिशत प्रश्न प्रश्न बैंक से ही आएंगे। लेकिन इस बार कुछ अलग ही देखने को मिला। इस बार जारी प्रश्न बैंक और प्रश्न पत्र का मिलान करने पर विद्यार्थियों ने पाया कि केवल 10 प्रतिशत प्रश्न ही प्रश्न बैंक से पूछे गए हैं। ऐसे में छात्र – छात्राएं परेशान हो रहे हैं और इन्हीं कारणों से वह धरना प्रदर्शन भी किए।

प्रश्न बैंक पर निर्भर होना पड़ा महंगा – Mp board exam question bank

माध्यमिक शिक्षा मंडल की कक्षा 10वीं व 12वीं की परीक्षा में निर्धारित प्रश्न बैंक से बाहर के प्रश्न पूछे जाने को लेकर विद्यार्थियों में आक्रोश है। इसके लिए बुधवार को विद्यार्थियों ने विधायक सचिन बिरला को ज्ञापन सौंपा ज्ञापन के माध्यम से विद्यार्थियों ने बताया मुख्यमंत्री ने परीक्षा के पूर्व घोषणा की थी। कक्षा 10वीं व 12वीं की परीक्षा में शासन द्वारा जारी प्रश्न बैंक से ही प्रश्न पूछे जाएंगे लेकिन एक भी प्रश्न नहीं पूछा गया है। सारे प्रश्न किताब से पूछे गए। इसके कारण विद्यार्थियों के प्रश्न पत्र बिगड़ गए हैं। प्रश्न पत्र में अनुत्तीर्ण होने की आशंका हो गई है। विधायक ने विद्यार्थियों की समस्या के बारे में जानकारी लेकर मुख्यमंत्री को पत्र लिखा।

  • प्रश्न बैंक के बदले किताब के दिए जा रहे हैं प्रश्नपत्र
  • सनावद विधायक को ज्ञापन सौंपते विद्यार्थी।
  • बोर्ड परीक्षा के जारी प्रश्न पत्रों को लेकर विद्यार्थियों ने जताया गुस्सा
Mp board exam question bank
Mp board exam question bank

विद्यार्थी ने शुरू किया धरना प्रदर्शन

माध्यमिक शिक्षा मंडल भोपाल द्वारा 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षा 17 फरवरी से शुरू हो गई है, जिसमें विद्यार्थियों ने प्रश्न पत्रों को लेकर अपनी नाराजगी जताई है। बुधवार को छात्र नेता जुगल पांचाल और विकास मेहता के नेतृत्व में तहसील परिसर में धरना प्रदर्शन कर शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन तहसीलदार विनोद शर्मा को सौंपा, जिसमें बताया कोरोना महामारी के कारण विद्यार्थियों की पढ़ाई नहीं हो पाई है। वहीं दूसरी ओर माध्यमिक शिक्षा मंडल द्वारा हाईस्कूल व हायर सेकंडरी की ऑफलाइन परीक्षा चल रही है।

प्रश्न बैंक से पढ़ने पर होंगे फ़ैल

स्कूलों द्वारा परीक्षा की तैयारी के लिए विद्यार्थियों को यह भीआश्वस्त किया था कि बोर्ड परीक्षा के प्रश्नपत्र में आने वाले प्रश्न इसी गाइड के अनुसार आएंगे लेकिन वर्तमान में जारी परीक्षा में गाइड के अनुसार मात्र 10 नंबर के प्रश्न ही प्रश्नपत्र में आ रहे हैं, जिससे विद्यार्थियों में असमंजस की स्थिति बनी हुई है क्योंकि छात्रों ने आगामी पेपरों की पढ़ाई भी उसी प्रश्न बैंक से की है और इसी प्रकार से प्रश्न पूछे गए तो सभी छात्रों को फेल होने का भय है। ऐसे में विद्यार्थियों ने बोर्ड की परीक्षा वापस से करवाने या फिर छात्रों को बोनस अंक देने एवं जनरल प्रमोशन की मांग की।

प्रश्न बैंक में किया जाता है दावा

हर साल माध्यमिक शिक्षा मंडल बोर्ड परीक्षा आयोजित करने से पहले पहले परीक्षा का पैटर्न, ब्लूप्रिंट और टाइम टेबल जारी करता हैं। वहीं विद्यार्थियों की सहूलियत और परीक्षा की तैयारी में आसानी के लिए मंडल द्वारा प्रश्न बैंक भी जारी किया जाता है जिसमें दावा किया जाता है कि प्रश्न बैंक से 70 से 80 प्रतिशत प्रश्न पूछे जाते हैं। लेकिन इस वर्ष होने वाली बोर्ड परीक्षा के प्रश्न पत्र से पता चलता है कि प्रश्न बैंक से तो पेपर बना ही नहीं अब जो विद्यार्थी पूरी तरह से प्रश्न बैंक पर निर्भर हो गए थे उन्हें फेल होने की शंका है। इसी कारण विद्यार्थी बोनस अंक या प्रमोशन चाह रहे हैं।