मध्य प्रदेश के सीधी जिले में परीक्षा आयोजन की तैयारी – बोर्ड तैयार

सीधी जिले में 59 परीक्षा केंद्रों में बोर्ड कक्षाओं की परीक्षाएं आयोजित करने की तैयारी में जिला शिक्षा विभाग जुटा हुआ है। साथ ही बोर्ड परीक्षाओं में नकल रोकने के लिए उड़दस्ता टीमों का गठन भी किया जा रहा है। परीक्षा केंद्रों में 13 संवेदनशील केंद्र है जबकि 7 को अतिसंवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है।

Join

Table of Contents

सीधी जिले में परीक्षा आयोजन की तैयारी

इस साल 10वीं में 19 हजार 123 छात्र परीक्षा देंगे। इसी प्रकार 12वीं में विभिन्न विषयों में 12 हजार 297 छात्र परीक्षा दे सकेंगे। इस बार परीक्षा केंद्रों में बढ़ोतरी के साथ- साथ कोरोना गाइड लाइन का पालन जैसी चुनौतियां भी विभाग के सामने हैं। जिले में हाईस्कूल और हायर सेकंडरी की बोर्ड परीक्षा 17 फरवरी से आयोजित की जाएगी। इसकी तैयारी शिक्षा विभाग ने पूरी कर ली है।

  • परीक्षाओं के आयोजन की तैयारी में जुटा शिक्षा विभाग
  • नकल रोकने गठित होंगे उड़दस्ता दल

सीधी जिले में परीक्षा आयोजन की तैयारी

सीधी जिले में परीक्षा के लिए 59 केंद्र बनाए गए है। जिसमें 7 को संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है। हाईस्कूल के 19 हजार 123 और हायर सेकेंडरी के 12 हजार 297 छात्र-छात्राओं को बोर्ड परीक्षा में शामिल किया जाएगा। इस परीक्षा में कोरोना संक्रमण का भी ध्यान रखा जाएगा। कोविड-19 के चलते पिछले साल बोर्ड परीक्षाएं आयोजित नहीं हुई थी। इस माह से बारहवीं और दसवी की परीक्षाएं शुरू हो रही हैं।

Mp board exam details in Sidhi

पहले कोरोना काल को लेकर तारीखों के मद्देनजर शंका की स्थिति थी लेकिन शासन स्तर पर घोषणा के बाद अब स्थिति साफ हो गई है। जिसके बाद विभाग ने तैयारियां शुरू कर दी हैं। इसी सप्ताहांत में 12 फरवरी से बोर्ड परीक्षाओं की प्रायोगिक परीक्षाओं की भी शुरूआत हो रही है। विभाग ने भी परीक्षाओं को लेकर तैयारियां शुरू कर दी है।

पिछले साल के हालात

कोविड-19 के चलते पिछले साल बोर्ड परीक्षाएं आयोजित नहीं हुई थी। इस साल कोरोना काल के मद्देनजर गाइडलाइन का पालन अनिवार्य कर दिया गया है। जिसके चलते डेढ़ गुना अधिक केंद्र बनाए जाने की बात कही जा रही है। ताकि बच्चों को दूर-दूर बैठाया जा सके। इस संबंध में अधिकारी निर्देशों का इंतजार कर रहे हैं। पिछले साल कोरोना की दूसरी लहर की तीव्रता के मददेनजर दसवीं और बारहवी की परीक्षाएं नहीं हुई थी। जिस कारण सभी छात्रों को पिछले परिणामों के आधार पर उत्तीर्ण घोषित कर दिया गया था। हालांकि बाद में कुछ छात्रों ने विशेष परीक्षा भी दी थी।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE