नक़ल करने पर होगी 3 साल की जेल | Mp Board exam cheating punishment

माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं-बारहवीं परीक्षा में नकल करने वाले परीक्षार्थियों को तीन साल की जेल या पांच हजार रुपए का जुर्माना हो सकता है। वहीं, परीक्षा में प्रवेश लेने वाले विद्यार्थियों के प्रवेश पत्र में गलती होने पर सुधार के लिए अंतिम मौका दिया गया है। विद्यार्थी 12 से 14 फरवरी के बीच सुधार कर सकते है।

नक़ल करने पर होगी 3 साल की जेल | Mp Board exam cheating punishment

मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल की दसवीं-बारहवीं बोर्ड परीक्षा 17 फरवरी शुरू हो रही है। बारहवीं परीक्षा में कुल 7,14,932 परीक्षार्थी तथा दसवीं में कुल 10,66,791 परीक्षार्थी शामिल हो रहे है। हायर सेकेंडरी परीक्षा के लिए 3,586 व हाईस्कूल परीक्षा के लिए 3,861 परीक्षा केंद्र बनाए गए हैं। परीक्षा को लेकर मंडल द्वारा जारी निर्देशों के मुताबिक बोर्ड रहेगी।

नक़ल करने पर होगी 3 साल की जेल

परीक्षाओं में यदि कोई परीक्षार्थी अनुचित साधनों का प्रयोग करता है, या कोई व्यक्ति इसमें उसकी सहाय करता है तथा परीक्षार्थियों के धमकी देना या हथियार ले जाने पर भी तीन साल की सजा का प्रावधान है। अनुचित साधनों का प्रयोग करते पाए जाने पर दोषी व्यक्ति को सरकारी सेवा में नहीं लिया जाएगा। क्लास में सामूहिक नकल या अन्य व्यक्ति द्वारा नकल करवाने पर सभी परीक्षार्थियों का परीक्षाफल निरस्त होगा। परीक्षा केंद्र से 100 गज की दूरी तक धारा 144 लागू रहेगी।

Mp Board exam cheating punishment
Mp Board exam cheating punishment

पांच मिनट पहले दी जाएंगी उत्तर पुस्तिकाएं

मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल ने दसवीं-बारहवीं परीक्षा के समय में परिवर्तन कर दिया है। अभी तक मंडल की परीक्षा सुबह साढ़े 8 से साढ़े 11 बजे तक परीक्षा आयोजित करता रहा है, लेकिन अब परीक्षा सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक आयोजित होगी। सुबह साढ़े 8 बजे तक परीक्षा केंद्र में पहुंचना अनिवार्य होगा। केंद्राध्यक्ष की अनुमति से 9.45 तक प्रवेश हो सकते हैं। इसके बाद केंद्राध्यक्ष भी प्रवेश नहीं दे सकते हैं। 9.50 बजे केंद्र में कापियां वितरित की जाएगी19.55 बजे प्रश्न पत्र का वितरण होगा। इससे प्रश्न- पत्रों के वाट्सअप पर आउट होने की संभावना नगण्य हो जाएगी।

20 छात्रों पर एक पर्यवेक्षक

परीक्षाओं में 20 छात्रों पर एक पर्यवेक्षक नियुक्त किया जाएगा। एक क्लास में 20 से अधिक व चालीस से कम छात्रों पर दो पर्यवेक्षक नियुक्त रहेंगे। छात्रों की चालीस से अधिक संख्या होने पर 15 परीक्षार्थियों पर एक पर्यवेक्षक रहेगा।

  • दसवीं-बारहवीं बोर्ड परीक्षा में नकल करने पर होगी तीन साल की जेल
  • परीक्षा केंद्र के 100 गज के दायरे में आने पर होगी दंडात्मक कार्यवाही

12 फरवरी से शुरू होगी प्रायोगिक परीक्षा

दसवीं-बारहवीं के नियमित विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षा 12 से 25 मार्च के बीच होगी जबकि प्रायवेट विद्यार्थियों की प्रायोगिक परीक्षा आवंटित परीक्षा केंद्र पर 18 फरवरी से 20 मार्च के बीच आयोजित की जाएगी।

अनुचित साधन की श्रेणी में आएगा केलकुलेटर

बोर्ड परीक्षा में केलकुलेटर का उपयोग अनुचित साधन की श्रेणी में माना जाएगा। साधारण केलकुलेटर, साइंटिफिक केलकुलेटर, पेजर, सेल्युलर फोन, कंप्यूटर के उपयोग पर प्रतिबंध लगाया गया है।

नकल रोकने के लिए सख्त उपाय किए गए हैं। दसवीं बारहवीं परीक्षा में नकल करने वाले परीक्षार्थियों को तीन साल की जेल या पांच हजार रुपए का जुर्माने का प्रावधान है। परीक्षा की लगभग पूरी तैयारियां हो चुकी है।

श्रीकांत बनोठ, सचिव मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

“बोर्ड परीक्षा के लिए TIPS & TRICKS के लिए यहाँ पर क्लिक करें। ”

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE

Leave a Comment