दसवीं एवं बारहवीं परीक्षा के लिए सवा सौ परीक्षा केंद्र मंडल के लिए बने हुए हैं सिर दर्द –

भोपाल : लगातार स्मरण पत्र भेजे जाने के वावजूद भी कलेक्टरों ने माध्यमिक शिक्षा मंडल के आदेशों पर कोई विशेष ध्यान नहीं दिया है, जबकि माह दिसम्बर के पहले सप्ताह मे ही बोर्ड के पत्र का पालन करते हुए परीक्षा केन्द्रों में संशोधन किया जाना था। अब माध्यमिक शिक्षा मंडल के आगे चिंता का विषय यह है कि फरवरी माह मे 10वी एवं 12वीं की परीक्षाएं होनी है, जबकि अभी परीक्षा के लिए कुछ केंद्र बोर्ड के लिए चिंता का विषय बने हुए हैं। सबसे जरूरी बात यह है कि चंबल , विंध्य और बुन्देलखण्ड में बोर्ड को सबसे ज्यादा चिंता बनी हुई है। इसका मुख्य कारण यह है कि यहां पर करीब सवा सौ परीक्षा केंद्र ऐसे है जो पहले से ही विवादों में आते रहे हैं। इनमें सामूहिक नकल के मामले सामने आते रहे हैं। और यहां पर विवादों की घटनाएं हो चुकी हैं।

और चंबल में देखा जाए तो भिंड ,मुरैना, शिवपुरी, और ग्वालियर तक कुछ केंद्र बोर्ड के लिए सिरदर्द बने हुए हैं। पिछले वर्षों में होने वाली परीक्षाओं के आंकड़ों पर ध्यान देते हुए माध्यमिक शिक्षा मंडल ने पूरी तरह से इन सभी केंद्रों में बदलाव करने के निर्देश दिए थे लेकिन उन निर्देशों का कोई खास असर नहीं हुआ। इन केंद्रों में अभी भी कोई संशोधन नहीं किया गया है। पिछले वर्षों में जो परीक्षा केंद्र विद्यालय से अधिक दूरी पर बनाए गए थे अब ऐसे केंद्रों में भी विद्यालय से तय दूरी पर बनाया जाना निश्चित है, जिससे कि छात्रों को आने जाने में परेशानी का सामना ना करना पड़े।

विंध्य और बुंदेलखंड में ऐसे हालात हैं कि यहां पर कई जिले ऐसे हैं जहां केंद्रों की संशोधन सूची कलेक्टरों को भेजी गई थी, लेकिन उनमें खासकर अभी कोई बदलाव देखने को नहीं मिला है। वही माध्यमिक शिक्षा मंडल के जनसंपर्क अधिकारी मुकेश मालवीय जी का कहना है कि इन सभी परीक्षा केंद्रों पर सुधार किया जा रहा है। इसके लिए सभी जिलों के कलेक्टरों को पत्र लिखे जा रहे है।

Join
MP Board Center List
MP Board Center List

इस साल परीक्षा में शामिल हो रहे हैं 20 लाख परीक्षार्थी-

माध्यमिक शिक्षा मंडल का कहना है कि हर साल की तरह इस साल भी 10वीं एवं 12वीं की बोर्ड परीक्षा में 20 लाख परीक्षार्थी शामिल होने जा रहे हैं। परीक्षा सुचारू रूप से हो सके इसके लिए बोर्ड के द्वारा सभी तैयारियां की जा रही हैं, सबसे खास बात यह है कि इस वर्ष परीक्षा में शामिल होने वाले परीक्षार्थियों को कोरोना की गाइडलाइन का मुख्य रूप से पालन करना होगा। इसके लिए प्रत्येक विद्यार्थी को मास्क लगाकर परीक्षा केंद्रों पर पहुंचना होगा। एवं विद्यार्थियों के बैठने का दायरा भी एक निश्चित रूप में किया जाएगा जिससे कि किसी भी विद्यार्थी को परेशानी ना हो एवं बोर्ड के नियमों का मुख्य रूप से पालन हो सके।

31 दिसंबर को रिटायर होंगे सचिव नए अफसर की होगी ताजपोशी-

माध्यमिक शिक्षा मंडल के वर्तमान सचिव उमेश कुमार सिंह दिसंबर माह की 31 तारीख को रिटायर होने जा रहे हैं बोर्ड परीक्षा के ठीक पहले उनका रिटायरमेंट जहां वह माध्यमिक शिक्षा मंडल को चिंता का कारण बना हुआ है वहीं शासन भी इस खोज में लगा हुआ है कि आखिर किस कुशल होनहार और योग्य अफसर को बैठाया जाए इसके लिए यह जानकारी है कि शासन ने इसकी खोजबीन शुरू कर दी है क्योंकि परीक्षाएं नजदीक आ रही हैं इसी कारणवश उनके रिटायरमेंट के ठीक बाद किसी योग्य अफसर को उनके स्थान पर बैठाया जा सके जिससे कि परीक्षाए सुचारू रूप से पूर्ण की जा सके।

एमपी बोर्ड की सभी खबरों के लिए गूगल पर सर्च करें physicshindi.com तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर ज़रूर करें ।

व्हाट्सएप पर सभी जानकारियाँ पाने के लिए यहाँ क्लिक करके आप हमारा Whatsapp ग्रुप जॉइन कर सकते है।