क्यों ली जाएँगी 5वीं 8वीं बोर्ड परीक्षा जानिए – Mp board 5th 8th exam board pattern

मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल सन 2009 के बाद से केवल 10वीं और 12वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं आयोजित करता है। शिक्षा अधिकार कानून 2009 लागू होने के बाद कक्षा 5वीं और 8वीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न पर आयोजित करने का प्रावधान समात्प कर दिया गया था। बता दें कि 2009 तक मध्य प्रदेश में 5वीं और 8वीं कक्षा की बोर्ड परीक्षाएं हुआ करती थीं लेकिन 2009 के बाद से 2021 तक 5वीं और 8वीं की परीक्षाएं सम्बंधित स्कूल के उसूलों और वहां की दशा पर आयोजित होती हैं।

Join

Table of Contents

क्यों ली जाएँगी 5वीं 8वीं बोर्ड परीक्षा जानिए

करीब एक दशक के बाद 5वीं व 8वीं की बोर्ड पैटर्न पर परीक्षा होगी। इसका टाइम टेबल घोषित किया गया। जिला शिक्षा कार्यालय के अनुसार परीक्षा 1 से 9 अप्रैल के बीच होगी। दोनों परीक्षाएं सुबह 9 से 11.30 बजे के बीच होंगी। इसमें राज्य शिक्षा केंद्र से प्रश्नपत्र सेट किए जाएंगे। वहीं कॉपियों की जांच जिला स्तर पर ही होगी। इसमें एक संकुल की कॉपी दूसरे संकुल में जांची जाएगी। जिस स्कूल में छात्र पढ़ाई कर रहा है, वह कॉपी नहीं जांचेगा। दोनों क्लास में प्रत्येक विषय का प्रश्नपत्र 100 अंक का होगा। इसमें 60 लिखित प्रश्नपत्र के व 40 अंक प्रोजेक्ट के रहेंगे। पास होने के लिए कम से कम 33 फीसदी अंक लाना होगा।

Mp board 5th 8th exam board pattern
Mp board 5th 8th exam board pattern

छात्र फेल हो जाने पर कर दिए जाते थे पास

पहले 5वीं और 8वीं की परीक्षाएं होती थीं तो उसमें फेल हुए विद्यार्थियों को पास कर दिया जाता था ताकि उनका साल खराब न हो और वह आगे की कक्षा में सम्मिलित हो सकें। लेकिन अब से बता दें कि ऐसा बिल्कुल न होगा, अब वर्ष 2022 से शिक्षा व्यवस्था में पुनः बदलाव किया जा रहा है। अब से कक्षा 5वीं और 8वीं की भी बोर्ड परीक्षाएं होंगी। लेकिन केवल सरकारी स्कूलों में ही बोर्ड के पैटर्न पर 5वीं और 8वीं की परीक्षाएं ली जाएंगी। प्राइवेट स्कूल अपने स्तर पर 5वीं और 8वीं कक्षा के पेपर तैयार कर सकेंगे।

5वीं 8वीं कक्षा में पास होना अनिवार्य

अब विद्यार्थियों को 5वीं और 8वीं कक्षा में पास होना अनिवार्य कर दिया गया है। और अगर कोई विद्यार्थी फेल होता है तो 2 महीने बाद दोबारा से उसकी परीक्षा ली जाएगी और उसमें उसे पास होने का अवसर दिया जाएगा। यदि उसमें भी वह फेल हो जाता है तो उसे दोबारा से उस क्लास में पढ़ना होगा। 2009 से प्राइमरी एवं मिडिल स्कूलों में पास फेल का सिस्टम खत्म कर दिया गया था। अब इसे दोबारा से लागू किया जाएगा। यानी 5वीं व 8वीं में अगर छात्र पास नहीं होता है तो उसे दो माह के भीतर दोबारा से परीक्षा में बिठाया जाएगा। इसमें भी पास न होने पर उसे उसी क्लास में फिर से पढ़ना होगा।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

“बोर्ड परीक्षा के लिए TIPS & TRICKS के लिए यहाँ पर क्लिक करें। ”

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE