सबसे कम और अधिक नंबर लाने वाले छात्रों की कापियों की दोबारा होगी जांच

मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिम) की 10वीं व 12वीं की परीक्षाओं की कापियों का मूल्यांकन कार्य पांच मार्च से शुरू हो जाएगा। 25 फरवरी तक हो चुकी परीक्षाओं की कापियां जांची जाएंगी। पहले चरण में करीब 60 लाख कापियों का मूल्यांकन होगा। इसके बाद मार्च में होने वाले पेपरों की कापियां 16 मार्च से जांची जाएंगी। माशिम द्वारा मूल्यांकन जिला स्तर पर किया जाएगा। राजधानी में मूल्यांकन केंद्र समन्वयक संस्था माडल स्कूल टीटी नगर को बनाया गया है। मूल्यांकन करने वाले शिक्षकों को मंडल ने सबसे खराव अंक लाने और सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले विद्यार्थियों पर विशेष ध्यान देने के निर्देश दिए हैं।

ऐसे विद्यार्थी जिन्हें एक नंबर भी न मिला हो या जिनके नंबर 90 फीसद से अधिक हों, उनकी कापियां दोबारा जांची जाएगी। इनके अलावा एक या दो अंक से किसी विषय में विशेष योग्यता या प्रथम श्रेणी की पात्रता से वंचित होने वाले परीक्षार्थियों पर भी विशेष ध्यान दिया जाएगा। इसमें हर पेज पर मिले अंकों को जोड़ने में भी विशेष सावधानी रखी जाएगी। ऐसी सभी कापियों को दोबारा चेक कर अंकों को ध्यान से जोड़ने के निर्देश दिए गए हैं। बता दें कि इस साल दसवीं व बारहवीं बोर्ड परीक्षा में करीब 17 लाख विद्यार्थी शामिल होंगे। पूरे विद्यार्थियों की एक करोड़ 30 लाख कापियां को जांची जाएंगी।

मूल्यांकन में 30 हजार शिक्षक होंगे शामिल: मूल्यांकन में 30 हजार शिक्षक शामिल होंगे। मूल्यांकन केंद्र के अंदर एक बार प्रवेश करने के बाद शिक्षक को बाहर नहीं जाने दिया जाएगा। इसके अलावा उत्तरपुस्तिकाओं की जांच आदर्श उत्तर के अनुसार होगी। विद्यार्थी को हर स्टेप के नंबर देने होंगे। इसमें 12वीं की कापी जांचने का काम प्राथमिकता से किया जाएगा। दसवीं की प्रति कापी जांचने पर 12 रुपये व वारहवीं के लिए 13 रुपये मिलेंगे। कापी जांच करने की राशि के अलावा मूल्यांकनकर्ताओं को प्रतिदिन आने जाने का भत्ता दिया जाएगा। मूल्यांकन कार्य प्रतिदिन सुबह 9.30 बजे से शुरू होगा। एक शिक्षक को प्रतिदिन न्यूनतम 30 व अधिकतम 45 उत्तरपुस्तिकाएं जांचने के लिए दी जाएंगी।

स्कूल की लापरवाही के कारण प्रवेश पत्र में विषय बदलने से परेशान हो रहा छात्र

नव निकेतन स्कूल करौद में 12 वीं के छात्र सूजल सिकनिया ने कामर्स विद मैथ्स लिया है। स्कूल प्रबंधन ने छात्र का परीक्षा फार्म भरा तो उसमें कामर्स के साथ गणित की जगह अर्थशास्त्र लिख दिया। जब छात्र का प्रवेश पत्र स्कूल के पास आया तो उसमें कामर्स विषय के साथ गणित के स्थान पर अर्थशास्त्र लिखा था। यह प्रवेश पत्र छात्र को 31 जनवरी को मिला था। छात्र ने प्रवेश पत्र पर ध्यान नहीं दिया। जब परीक्षा शुरू हुई तो पहला पेपर अंग्रेजी का होने के कारण वहउसमें शामिल हो गया। अगले पेपर की वारी आईतो छात्र को पता चला कि प्रवेश पत्र में गणित विषय की जगह अर्थशास्त्र लिखा है। छात्र ने मामले की शिकायत परीक्षा केंद्र प्रभारी व स्कूल संचालक से की। इससे छात्र काफी परेशान था। वहीं स्कूल संचालक सौरभ चौहान का कहना है कि छात्र को समय पर प्रवेश पत्र दे दिया गया था। तभी वह बता दे देता, तो उसी समय प्रवेश पत्र में सुधार हो जाता। उसने देर से बताया, लेकिन अब भी प्रवेश पत्र में सुधार करवा लिया गया है। वह तीन मार्च को गणित विषय की परीक्षा दे सकता है।

MP Board 2022 Marks Related News
MP Board 2022 Marks Related News

दसवी का विज्ञान का पेपर:-

मप्र बोर्ड दसवी कक्षा का विज्ञान का पेपर बुधवार को होगा। इसमें प्रदेश से 10 लाख विद्यार्थी शामिल होंगे। वहीं जिले के 1.04 केंद्रों पर करीब 32 हजार विद्यार्थी शामिल होंगे। परीक्षा सुबह 10 से दोपहर 1 बजे तक होगी।मध्यप्रदेश बोर्ड एग्जाम 10वीं और 12वी का कापियों का मूल्यांकन पांच मार्च से होगा शुरू। पूरे विद्यार्थियों की एक करोड़ 30 लाख कापियां जांची जाएंगी। उत्तरपुस्तिकाओं का मूल्यांकन कार्य पांच मार्च से शुरू होगा। पहले चरण में 28 फरवरी तक हुई परीक्षाओं की कापिया जांची जाएगी। 

एमपी बोर्ड एग्जाम 2022 FAQ

1. पास होने के लिए कितने अंक चाहिए 2022?

Ans – विद्यार्थियों को पास होने के लिए 100 अंक में से 33% अंक ही पास होने के लिए चाहिए।

2. 80 नंबर के पेपर में कितने नंबर से पास होते हैं?

Ans – 70 अंको वाले सब्जेक्ट में छात्र को कम से कम 23 अंक लाना अनिवार्य होता है और 80 अंक वाले सब्जेक्ट में छात्रों को 26 अंक लाना अनिवार्य होता है।

3. 1% कितने नंबर का होता है?

Ans – प्रतिशत का अर्थ है प्रति सौ या प्रति सैकड़ा (% =1/100) ; एक सौ में एक। उदाहरण के लिये माना कि गणित के प्रश्नपत्र का पूर्णांक 50 है और उस प्रश्नपत्र में कोई छात्र 48 अंक प्राप्त करता है तो कहते हैं कि उस छात्र को 48/50 = 96/100 = 96 प्रतिशत (96%) अंक मिले। इस तरह समझ सकते हैं 1% कितना होता है।

4. कितने नंबर का पेपर आएगा?

Ans – नई शिक्षा नीति 2020 के अनुसार यूपी बोर्ड पहले चरण में यानी हाफ ईयरली एग्जाम कुल 70 अंकों के लिए आयोजित कर रहा है। जिसे 50+20+30 मार्क्स फॉर्मूले में बांटा गया है। 20 नंबर का एग्जाम मल्टीपल च्वाइस आधारित होगा और 50 नंबर का पेपर पुरानी नीति के अनुसार लिखित होगा।

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE