girls candidate admission increase in B.Tech | तकनीकी शिक्षा में छात्राओं का रूझान बढ़ा, 23 फीसदी छात्राओं ने लिया प्रवेश

आने वाले समय में फैक्ट्रियों में महिला इंजीनियरों की संख्या बढ़ेगी

तकनीकी शिक्षा विभाग के 539 काॅलेजों में वर्तमान सत्र 2021-22 में एक लाख तीस हजार विद्यार्थियों के प्रवेश हुए हैं। इसमें करीब 31 हजार छात्राओं ने प्रवेश लिये हैं। मतलब 23 फीसदी छात्राओं के दाखिले हुए हैं। इसमें सबसे ज्यादा प्रवेश एमबीए और इंजीनियरिंग काॅलेजों दर्ज हुए हैं। सूबे की छात्राएं अब स्कूल के बाद उच्च शिक्षा और तकनीकी शिद्वाा में आगे बढ़ने लगी हैं। उन्होेने अपना भविष्य निर्धारित करने के लिए काॅलेजों में प्रवेश लेना शुरू कर दिया है। ये प्रवेश उनके माता-पिता जबरिया नहीं बल्कि वे अपनी पसंद के काॅलेजों में लेकर अपने भविष्य को बनाने की तैयारी में लग गई हैं। जहां इंजीनियरिंग और एमबीए में सिर्फ छात्रों का जमावडा दिखाई देता था।

girls candidate admission increase in B.Tech
girls candidate admission increase in B.Tech

अब उनकी सीटों पर छात्राओं ने कब्जा करना शुरू कर दिया है। जेईई मैन्स में अच्छा रैंक मिलने के कारण उन्हें सरकारी काॅलेज और निजी इंजीनियरिंग काॅलेजों में पसंदीदा ब्रांच में प्रवेश मिल रहे हैं। इसी तरह एमबीए में भी छात्राओं के प्रवेश के आंकड़े गत वर्षाें की अपेक्षा काफी अच्छे हैं।

Join

इंजीनिरिंग में सीएसई पहली पसंद: प्रदेष में 145 इंजीनियरिंग काॅजेजों की 54,858 सीटों में से 35,181 विद्यार्थियों के प्रवेश हुए हैं। सूबेभर के काॅलेजों में दर्ज 55 ब्रांच में 27,996 छात्राओं के दाखिले हुए हैं। सिविल और मेकेनिकल जैसी ब्रांच को पढ़ने में करीब एक हजार छात्राओं ने रूचि दिखाई है।

एमबीए में 38 फीसदी प्रवेश:

प्रदेश में एमबीए के 199 काॅलेज संचालित हो रहे हैं। तकनीकी शिक्षा विभाग सिर्फ एमबीए में प्रवेश देता है, लेकिन काॅलेजों को संबद्धता उच्च शिक्षा विभाग में दर्ज पारंपरिक विवि द्वारा जारी होती है।उक्त काॅलेजों ने एमबीए की 21 ब्रांच की 38,469 सीटों पर प्रवेश कराने की विभागीय काउंसलिंग में भागीदारी की है। विभाग उनकी 35,201 सीटों पर ही प्रवेश करा सकता है। इसमें 21,884 छात्रों ने प्रवेश लिये हैं। जबकि 13,367 छात्राओं के दाखिले हुए हैं। एमबीए के कुल प्रवेश में 38 फीसदी छात्राएं हैं।
टब महिलाओं का बढ़ेगा प्रभाव: एमबीए और इंजीनियरिंग के अलावा फार्मेसी, एमसीए ओर पाॅलीटेक्निक में छात्राओं की दखलअंदाजी बढ़ी ह। इससे ये तो तय हो गया है कि आने वाले समय मे बैंक और बड़े – बड़े फैक्ट्री में महिला इंजीनियर और मैनेजर दिखाई देंगी। वहीं फार्मेसी कंपनियों में उनकी संख्या बढ़ती जा रही है।

तकनीकी शिक्षा में छात्र-छात्राओं के प्रवेश स्थिति

काॅलेजों की संख्या539
कुल सीटें185,398
कुल प्रवेश1,30,394
कुल रिक्त सीटें55,004
कुल छात्राओं के प्रवेश30,889
कुल छात्रों के प्रवेश99,487
girls candidate admission increase in B.Tech