Ekadashi December 2022 Date and Time: आज है मोक्षदा एकादशी, इस विधि से करें माता लक्ष्मी और भगवान विष्णु का पूजन

Ekadashi December 2022 Date and Time: आज के इस आर्टिकल में हम आपको Ekadashi December 2022 Date and Time के बारे में बताने वाले हैं. बहुत सारे लोग सोच रहे हैं कि आखिर मोक्षदा एकादशी कब है यानी कि मोक्षदा एकादशी 3 दिसंबर को मानी जा रही है या फिर 4 दिसंबर को मानी जा रही है. हिंदू धर्म में एकादशी को बहुत ही शुभ फलदाई माना गया है. जैसा की आप सभी को पता है कि हर महीने दो बार एकादशी आती हैं एक एकादशी शुक्ल पक्ष में और दूसरे एकादशी कृष्ण पक्ष में लेकिन आपको बताना चाहेंगे कि मार्गशीर्ष माह में आने वाली एकादशी को मोक्षदा एकादशी कहा जाता है. मोक्षदा एकादशी से तात्पर्य है मोक्ष प्राप्त कराने वाली एकादशी. मान्यता है कि इस एकादशी का व्रत करने से मोक्ष की प्राप्ति होती हैं. तो आइए जानते हैं कि Ekadashi december 2022 Date and Time क्या है. यहां आपको Ekadashi in december 2022 timing की पूरी जानकारी विस्तार से देने वाले हैं.

Ekadashi December 2022 Date and Time

Ekadashi December 2022 Date and Time: मोक्षदा एकादशी का हिंदू धर्म में बहुत ज्यादा महत्व है. मोक्षदा एकादशी को मार्गशीर्ष माह के कृष्ण पक्ष में एकादशी के दिन माना जाता है. इस एकादशी को मोक्ष प्राप्त करने के लिए एक महत्वपूर्ण दिन बताया गया है. मोक्षदा एकादशी के कई अर्थ निकाले जाते हैं. मोक्षदा एकादशी को मोह का नाश करने वाली एकादशी भी कहा जाता है. इस दिन भगवान विष्णु की पूजा की जाती है और इसी दिन भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को गीता का ज्ञान भी दिया था, इसलिए इस दिन को गीता जयंती के रूप में भी मनाया जाता है. Ekadashi December 2022 Date and Time की बात करें तो मोक्षदा एकादशी की शुरुआत शनिवार 03 दिसंबर 2022 यानी आज सुबह 05 बजकर 39 मिनट पर हो चुकी है वहीं इसके समाप्ति 04 दिसंबर यानी कल सुबह 05 बजकर 34 मिनट पर होगी.

इन्हें भी पढ़ें-

Ekadashi in december 2022 timing

Ekadashi December 2022 Date and Time: शास्त्रों के मुताबिक इस दिन भगवान विष्णु की पूजा करने और व्रत करने से उनके पूर्वजों को मोक्ष की प्राप्ति होती है. वही आपको बताना चाहेंगे कि बहुत बार दो-दो दिन एकादशी मानी जाती है बताना चाहेंगे कि इस स्मार्त परिवारजनों को पहले दिन एकादशी का व्रत करना चाहिए, वही दूसरे दिन की एकादशी दूजी एकादशी कहलाती है. वही दूसरे दिन वाली एकादशी के दिन सन्यासियों, साधुओं और विधवाओं को मोक्ष प्राप्ति करने के लिए व्रत करना चाहिए. Ekadashi december 2022 parana time की बात करें तो भक्त 04 दिसंबर को सुबह 07 बजकर 05 मिनट से लेकर 09 बजकर 09 मिनट तक कर सकते हैं. उदयातिथि के अनुसार मोक्षदा एकादशी 03 दिसंबर यानी मनाई जा रही है.

Ekadashi December 2022 Date and Time
Ekadashi December 2022 Date and Time

अशुभ समय (अशुभ मुहूर्त)

दुष्टमुहूर्त– 06:57:30 से 07:39:16 तक, 07:39:16 से 08:21:01 तककुलिक– 07:39:16 से 08:21:01 तककंटक– 11:49:46 से 12:31:32 तकराहु काल– 09:34 से 10:52 तककालवेला/अर्द्धयाम– 13:13:17 से 13:55:02 तकयमघण्ट– 14:36:47 से 15:18:32 तकयमगण्ड– 13:28:56 से 14:47:13 तकगुलिक काल– 06:57 से 08:15 तक

Join

Mokshada Ekadashi 2022 Pujan Vidhi

Ekadashi December 2022 Date and Time: मोक्षदा एकादशी के अवसर पर भगवान विष्णु के 2 अवतारों स्वयं भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण की पूजा की जाती है. मोक्षदा एकादशी के दिन सुबह जल्दी उठकर स्नान कर स्वच्छ कपड़े पहने. इसके बाद अपने पूजा कक्ष में पीला कपड़ा बिछाकर उस पर भगवान विष्णु या भगवान कृष्ण की प्रतिमा या मूर्ति स्थापित करें. लाल या पीले कपड़े में गीता भी स्थापित करें. इसके बाद फल मिष्ठान एवं पंचामृत आदि अर्पित करें. इसके बाद आपको गीता का वाचन करना है या फिर अध्याय 11 को पढ़ें. भगवान श्री कृष्ण के मंत्रों का जाप करें. इसके बाद आपको अपनी कामना पूर्ति की प्रार्थना करनी है इस दिन आप चाहे तो दान भी कर सकते हैं दान का फल अनंत गुना मिलता है. 

मोक्षदा एकादशी के दिन नहीं करना चाहिए यह काम

  1. मोक्षदा एकादशी का व्रत रखने से 1 दिन पहले ही प्याज, लहसुन, मसूर की दाल, बैंगन, जौ आदि का सेवन न करें.
  2. इस दिन किसी भी व्यक्ति के लिए मन में गलत विचार ना लाएं.
  3. बाल नाखून आदि काटने से बचना चाहिए और हो सके तो झाड़ू का भी इस्तेमाल नहीं करना चाहिए.
  4. इस दिन फूल और तुलसी के पत्तों को भी नहीं तोड़ना चाहिए पूजा के लिए आप एक दिन पहले ही फूल और तुलसी के पत्तों को रख सकते हैं.
  5. मोक्षदा एकादशी के दिन झूठ भी नहीं बोलना चाहिए इस दिन सुबह जल्दी उठ कर स्नान इत्यादि करना चाहिए.
  6. इस दिन भगवान विष्णु के साथ महालक्ष्मी की भी पूजा करनी चाहिए.
PH Home Page Click Here