कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से भयभीत हैं विद्यार्थी | Corona ki teesri lahar ka education par effect

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से भयभीत हैं विद्यार्थी | Corona ki teesri lahar ka education par effect

कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका से विद्यार्थियों के साथ ही उनके अभिभावकों में भी डर फैल गया है। खासकर जो विद्यार्थी शहर में पढ़ाई कर रहे हैं, उनके माता-पिता इस समय ज्यादा चिंता कर रहे हैं कि कहीं संक्रमण न बढ़ जाए। इसके चलते शहर के कई विद्यार्थी अब वापस अपने घर जाने लगे हैं।

शहर में आए बाहरी विद्यार्थी अब वापस जाने की जुगत में

कोरोना की दो लहर के कम होने के बाद पिछले दो महीने में ही बड़ी संख्या में शहर में फिर से विद्यार्थी का अना हुआ है और ज्यादातर शिक्षण संस्थाएं शुरू हो चुकी थीं, लेकिन संक्रमण के डर के कारण विद्यार्थी अब अपने घर से ही शिक्षा लेना चाहते हैं। प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के लिए हर वर्ष शहर में करीब डेढ़ लाख विद्यार्थी आते हैं। इनमें से ज्यादातर शहर में आ चुके हैं और भंवरकुआं क्षेत्र के ज्यादातर होस्टल विद्यार्थियों से भर चुके हैं। देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी और Govt.काॅलेजों के होस्टलों में भी विद्यार्थी आ चुके हैं।

Join
Corona ki teesri lahar ka education par effect
Corona ki teesri lahar ka education par effect

ओल्ड जीडीसी के बाद जीएसीसी-होलकर कैम्पस में भी प्रवेश के लिए वैक्सीन के दोनों डोज अनिवार्य

प्रदेश के सबसे बड़े होलकर साइंस काॅलेज और जीएसीसी में भी ऑफलाइन कक्षाएं शुरू हो चुकी हैं और पूरी क्षमता में विद्यार्थियों ने आना शुरू कर दिया था, लेकिन अब फिर से 50 फीसद क्षमता से कक्षाएं संचालित की जा रही हैं। गुजराती से लेकर वैष्णव काॅलेज तक में ऑफलाइन क्लासेस संचालित हो रह है। कई विद्यार्थियों की यह भी चिंता है कि होस्टल, मैस और कोचिंग की पूरे वर्ष की फीस भर चुके हैं। ऐसे में अगर वे इन सुविधाओं का लाभ नहीं ले पाए तो उन्हें आर्थिक नुकसान भी होगा। कई विद्यार्थी जिन्हें ऑफलाइन कक्षाओं की जरूरत थी, उन्हें भी अब मजबूरन ऑनलाइन क्लासेस ज्वाइन करना पड़ेंगी। जल्द ही उच्च शिक्षा विभाग भी नई गाइडलाइन जारी करने वाला है। इसके बाद काॅलेजों में आगे की क्या प्रक्रिया रहेगी? इसे लेकर और स्पष्ट स्थिति विद्यार्थियों को पता लग सकेगी।

कोरोना की तीसरी लहर की आशंका से भयभीत हैं विद्यार्थी

ओल्ड जीडीसी में एक महिला प्रोफेसर के कोरोना पाॅजिटिव पाए जाने के बाद अब दूसरे काॅलेजों ने भी सखती दिखाना शुरू कर दी है। इसके बाद होलकर साइंनस काॅलेज में और अब प्रदेश के सबसे बड़े अटलविहार बाजपेयी शासकीय आट्र्स एंड काॅमर्स काॅलेज ने कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका को देखते हुए काॅलेजों के विद्यार्थियों को अनिवार्य रूप् से वैक्सीन के दोनो डोज के प्रमाण-पत्र जमा कराने के लिए कहा है।

एमपी बोर्ड की सभी खबरों के लिए आप हमारी वेबसाईट physicshindi.com पर रेगुलर विज़िट करते रहिए तथा इस पोस्ट को शेयर करना न भूलें अपने दोस्तों के साथ।

अगर आप मार्कशीट में करेक्शन कैसे करें इसका पूरा प्रोसेस जानना चाहते है तो यहाँ पर क्लिक करें