Vaccine – 3 जनवरी से 9वीं से 12वीं कक्षा के बच्चों को लगेगा टीका

राजधानी के डेढ़ लाख बच्चों को एक हफ्ते में लगेगी को वैक्सीन

जिले के करीब डेढ़ लाख बच्चों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए तीन जनवरी से टीकाकरण किया जाएगा। जिले के करीब 700 सरकारी और निजी हाई स्कूल और हायर सेकंडरी स्कूलों में दर्ज 1 लाख 13 हजार 720 छात्रछात्राओं के साथ ही आंगनबाडी में दर्ज करीब 20 हजार शाला त्यागी बच्चों को कोवैक्सीन का पहला डोज लगाया जाएगा। बच्चों के वैक्सीनेशन के लिए जिले के 48 संकुल प्राचार्यों को नोडल ऑफिसर बनाया गया है। संकुल प्राचार्य अपने संकुल के तहत आने वाले सरकारी और निजी स्कूलों में दर्ज 9वीं से 12वीं कक्षा के बच्चों का टीकाकरण किया जाएगा। इसके साथ गंभीर बीमारी वाले वृद्धों और फ्रंट लाइन वकर्स को भी वैक्सीन का थर्ड डोज लगाया जाना है। जिसके लिए सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में कैंप लगाया जाएगा।

children vaccine schedule covid
children vaccine schedule covid

स्कूलों के स्लॉट होंगे तय – जो बच्चे स्कूलों में दर्ज – नहीं, उनको ढूंढेंगे शहर के सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में छात्रों को लगाए जाने वाले डोज को लेकर अलगा अलग स्कूलों के स्लॉट तय किए जाएंगे। जिससे संकुल केंद्रों पर भीड़ नहीं हो।सरकारी और प्राइवेट स्कूलों में एक हफ्ते में सौ फीसदी छात्रों के टीकाकरण करने का टारगेट रखा गया है। इधर जो बच्चे स्कूलों में दर्ज नहीं हैं, उन बच्चों की तलाश आंगनबाड़ी केंद्रों में दर्जशाला त्यागी बच्चों के रजिस्टर से की जाएगी।

| NMMS Scholarship 2021-22 Full Details

| एमपी राज्य वन सेवा भर्ती – अंतिम तिथि, अप्लाइ

| For Vaccination Certificate – How to get Vaccination Certificate

| स्कूल कॉलेज बंद – आदेश , ओमीक्रॉन का खतरा

एक हफ्ते में कर लेंगे टीकाकरण

तीन जनवरी से  15 से अठारह साल के किशोरों का टीकाकरण किया जाना है। जिसके लिए तैयारी चल रही है। एक हफ्ते में सौ फीसदी टीकाकरण करने का टारगेट रखा गया है। संदीप केरकेट्टा, अपर कलेक्टर और नोडल अधिकारी टीकाकरण कैसे होगा डेढ़ लाख बच्चो का वेक्सिनेसन बच्चों एवं उनके अभिभावकों को भी सूचित कर दिया गया है। शिक्षा अधिकारी का कहना है कि जो टीकाकरण केंद्र निर्धारित किए जा रहे हैं। उनका वह स्वयं मौके पर पहुंचकर निरीक्षण कर रहे हैं। प्राचार्यों से कहा भी गया है कि प्रत्येक केन्द्र पर बेहतर व्यवस्था बनाई जाए। ताकि बच्चों को कोरोना की वैक्सीन लगवाने में किसी भी प्रकार की दिक्कत का सामना नहीं करना पड़े।

JOIN WHATSAPP GROUPCLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUPCLICK HERE
PHYSICSHINDI HOMECLICK HERE