मध्य प्रदेश में 2003 और उससे पहले के छात्रों के अंकसूची में सुधार का मौका

माध्यमिक शिक्षा मंडल ने 10वीं व 12वीं में मार्कशीट फोटोकॉपी संबंधित डॉक्यूमेंट को लेकर कुछ बड़ा बदलाव किया है। 2003 और उससे पहले के वर्षों की मार्कशीट में बदलाव 3 महीने बाद नहीं हो सकेगा। इस बदलाव के लिए आवेदन अगले 3 महीने बाद नहीं लिया जाएगा। मंडल ने इस बोर्ड कक्षाओं की मार्कशीट को लेकर जरूरी कामों को वर्ष के आधार पर 3 हिस्सों में बांटा है 1971 से 2002 तक की फोटो कॉपी डॉक्यूमेंट के लिए ऑफलाइन और ऑनलाइन आवेदन किए जा सकेंगे। 2003 एवं उसके बाद के वर्षों के लिए आवेदन पहले जैसे होंगे। 3 वर्ग मे किया गया विभाजन- एमपी बोर्ड ने फोटो कॉपी और अंकसूची में सुधार के नियम बदले हैं। इसके लिए 10वीं और 12वीं के छात्रों को वर्ष के आधार पर 3 वर्ग में बांटा है। छात्रों को अंकसूची में सुधार और फोटो कॉपी के लिए ऑनलाइन और ऑफलाइन का विकल्प दिया जा रहा है।

इस तरह ले सकते हैं सुविधा का लाभ- वर्ष 1971 से वर्ष 2002 तक के समस्त प्रतिलिपि दस्तावेजों के लिए आवेदन ऑफलाइन कर सकते हैं।

  • वर्ष 2003 एवं इसके पहले के वर्षों के संशोधन आदेश दिन से तीन माह बाद नहीं लिया जाएगा।
  • वर्ष 2003 तथा बाद के वर्षों से संबंधित प्रतिलिपि,फोटोकॉपी, दस्तावेज एवं संशोधन संबंधित आवेदन पहले की तरह ऑनलाइन ही मान्य होंगे।

जिन बच्चों ने नहीं लगवाया पहला डोज अब शिक्षक करेंगे उनकी खोज-

कोरोना का डोज न लगवाने के कारण इंदौर में स्कूलों पर कार्यवाही हुई तो राजधानी में सक्रियता बढ़ गई हैं। जिला शिक्षा अधिकारी ने पूछा है कि कितने बच्चे पहले डोज से वंचित रह गए हैं। उनकी खोज करते हुए तत्काल टीका लगवाया जाए। जिला शिक्षा अधिकारी नितिन सक्सेना ने बताया कि 30 हजार से अधिक बच्चों को पहला डोज लग चुका है। अब दूसरे डोज लगाने का काम प्रारंभ किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि पहले डोज में वह बच्चे से रह गए हैं जिन्हें कोई न कोई बीमारी है इन कारण संस्था प्राचार्य से कहा गया है कि ऐसे बच्चों की खोज की जाए जिन्हें अभी तक टीका नहीं लग पाया है। इनमें अगर बच्चे स्वास्थ्य है तो तत्काल उन्हें पहला टीका लगाया जाए। उन्होंने बताया कि दूसरे चरण में बच्चों को व्यवस्थित तरीके से डोज लगाया जाएगा उन्होंने बताया कि सत प्रतिशत बच्चों को टीका लगाना लक्ष्य है।

board of secondary education related news
board of secondary education related news

बच्चों की विशेष तैयारी पर फोकस-

इधर फरवरी के दूसरे सप्ताह से प्रारंभ होने जा रही 10वीं एवं 12वीं की परीक्षाओं को लेकर अधिकारी सक्रिय हुए हैं। मौजूदा समय में उन बच्चों पर कक्षाओं में शिक्षा नजर रख रहे हैं जिनकी विषय तैयारियां अभी पूरी नहीं हो पाई है। ऐसे बच्चों को रिमेडियल कक्षाओं में पढ़ाया जा रहा है रिमेडियल कक्षाओं में इन बच्चों की सब्जेक्ट तैयारियां कंप्लीट करवाई जा रही हैं। अधिकारियों ने सभी प्राचार्यो को यह निर्देश भी दिया है कि बच्चों के रीवीजन पर ध्यान दिया जाए अगर उन्हें कहीं कठिनाई आती है तो सरल व विधि में उन्हें समझाया जाए।

महत्वपूर्ण जानकारियाँ —

“बोर्ड परीक्षा के लिए TIPS & TRICKS के लिए यहाँ पर क्लिक करें। ”

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE

Leave a Comment