बोर्ड परीक्षा सामग्री लाने वाले को नहीं दिया मानदेय

इन दिनों मण्डल द्वारा बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों का मूल्यांकन कार्य कराया जा रहा है। वहीं आयोजित होने वाली बोर्ड परीक्षाओं की कॉपियों को मार्तण्ड स्कूल क्रमांक-1 में बंडल के तौर पर तैयार करने का काम भी किया जाता है। बोर्ड द्वारा परीक्षा सामग्री परीक्षा केन्द्रों से लेकर आने वाले भृत्य को 5सी रुपए का मानदेय पारिश्रमिक भुगतान किया जाता है किन्तु अब तक भूत्य को पारिश्रमिक नहीं दिया गया है। मामला शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय महसाव का बताया गया है। पीड़ित भूत्य ने कलेक्टर, जिला शिक्षा अधिकारी सहित अन्य को शिकायत की है।

Join

इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार आदित्य कुमार नामदेव शासकीय कन्या उच्चतर माध्यमिक विद्यालय बैकुण्ठपुर में भृत्य के पद पर पदस्थ है।उसके द्वारा लगातार परीक्षा सामग्री लाने और ले जाने का कार्य किया जाता रहा है। जिसका प्रति चकर 5सौ रुपए मानदेय का भुगतान परीक्षा केन्द्र के प्रभारी को किया जाना है लेकिन प्रभारी द्वारा मानदेय का भुगतान नहीं किया जा रहा है। पीड़ित मृत्य आदित्य कुमार ने केन्द्राध्यक्ष उच्चतर माध्यमिक विद्यालय महसांव की शिकायत अधिकारियों से की है। गौरतलब है कि परीक्षा की दो पेटियां बैकुण्ठपुर से लेकर गया था।

कॉपियों के बंडल तथा साथ ही प्रश्न पत्र प्राप्त होने तक रात्रि 8 बजे तक वह रहकर रखरखाव में सहयोग करता रहा किन्तु अब केन्द्राध्यक्ष द्वारा उसको मानदेय नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में त्य आदित्य कुमार नामदेव आर्थिक संकट से जूझने लगा है। जबकि नियम के तहत तत्काल ही मानदेव का भुगतान कर देना चाहिए। अब पीड़ित ने वरिष्ठ अधिकारियों से केन्द्राध्यक्ष द्वारा मानदेय नहीं दिए जाने की शिकायत की है।

अतिथि शिक्षक संघ ने मुख्यमंत्री को सौंपा ज्ञापन:-

पात्रता परीक्षा उर्तीण अतिथि शिक्षक संघ के प्रदेश अध्यक्ष तरुणेन्द्र मिश्र ने प्रतिनिधि मण्डल के साथ प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के सिरमौर आगवन पर मुलाकात कर तीन सूत्रीय ज्ञापन अतिथि शिक्षकों की मांगों के संबंध में सौंपा। ज्ञापन में मांग की गई है कि जो अतिथि शिक्षक बीएड, डीएड उत्तीर्ण हैं तथा तीन वर्ष से अधिक का अनुभव रखते हैं, दोनों पात्रता परीक्षा उत्तीर्ण हैं उन अतिथि शिक्षकों को सीधे नियमित किया जाय। मध्यप्रदेश सरकार में अन्य राज्यों की तरह नीतियां बनाकर अतिथि शिक्षकों का भविष्य सुरक्षित किया जाय।

Board Exam Over 2022
Board Exam Over 2022

अतिथि शिक्षकों को 12 माह का वेतनमान एवं 62 वर्ष तक पदस्थायित्व किया जाय। मुख्यमंत्री ने प्रतिनिधि मण्डल को आश्वस्त किया है कि मांगों पर विचार किया जायेगा। प्रतिनिधि मंडल में रोहणी प्रसाद द्विवेदी, जयारानी नामदेव, पवन मिश्रा, बैजनाथ तिवारी, पंकज पाठक, वाहिद खान, दशरथ सिंह सुखेन्द्र सिंह, श्रीराम तिवारी, अजीत शुक्ला आदि उपस्थित रहे। नियुक्ति दिनांक से अतिथि शिक्षकों को दुगना वेतन दिया जाए। ज्ञापन देने वाले में ब्लॉक अध्यक्ष कुंवरसिंह चौहान, जितेश सोलंकी, मुकेश बामनिया, कीर्ति राणे, गणेश गंगवाल, राजू वास्केल, दिनेश मंडलोई, गजेंद्र आदि अतिथि शिक्षक मौजूद थे।

हर शिक्षक के जिम्मे हैं इतनी कॉपियां:-

एमपी बोर्ड परीक्षा 2022 में शामिल हुए छात्रों की कॉपी जांचने के लिए कुछ शिक्षकों की ड्यूटी लगाई गई है। 10वीं-12वीं बोर्ड परीक्षा कॉपी का मूल्यांकन कार्य सुबह 9:30 बजे से शुरू होगा. साथ ही 1 दिन में शिक्षक न्यूनतम 30 और अधिकतम 45 कॉपियों की जांच करेंगे. सिर्फ यही नहीं, एक बार मूल्यांकन कक्ष के अंदर आ जाने के बाद शिक्षकों को बाहर जाने की इजाजत नहीं मिलेगी।  मुश्किल से बनेगा टॉपर का रिजल्ट- एमपी बोर्ड परीक्षा 2022 में जिन भी छात्रों के अंक 90 प्रतिशत या उससे ज्यादा बनेंगे, उनकी कॉपी दोबारा चेक की जाएगी. सिर्फ यही नहीं, जो छात्र एमपी बोर्ड 10वीं और 12वीं की परीक्षा में काफी कम अंक हासिल करेंगे, उनकी कॉपी को भी दोबारा जांचा जाएगा. इससे रिजल्ट जारी करने में किसी तरह की गलती की गुंजाइश नहीं रहेगी।

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE