बोर्ड परीक्षा 2022 पर खतरा : सीबीएसई स्कूलों के सेकंड टर्म की परीक्षाओं पर असमंजस, दिल्ली के सभी स्कूल भी बंद

सीबीएसई स्कूलों के सेकंड टर्म की परीक्षाओं पर असमंजस, स्कूल संचालकों ने कहा ओमिक्रॉन का खतरा बोर्ड को करना है निर्णय

भोपाल : सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेण्डरी एज्युकेशन यानि सीबीएसई की सैकेण्ड टर्म की परीक्षाओं पर असमंजस बन गया है। पहले से ही यह परीक्षाएं मार्च अंत और अप्रैल के प्रथम सप्ताह से ही प्रारंभ होना थी। अब ओमिक्रॉन की दहशत के कारण बोर्ड में भी मंथन का दौर चल रहा है। स्कूल संचालकों का भी कहना है कि ओमिक्रॉन के कारण बोर्ड चिंतित है। स्कूलों के सहोदय ग्रुप का कहना है कि सेकेंड टर्म की परीक्षाएं मार्च के अंतिम सप्ताह से प्रारंभ होना थी, अब जो संकेत मिल रहे हैं, उसके कारण परीक्षाएं तो हो सकती है,

लेकिन पद्धति चेंज हो सकती है। ग्रुप के अनुसार 27 दिसंबर को पहले टर्म की परीक्षएं संपन्न हुई हैं। यह सभी परीक्षाएं ऑफ लाइन कराई गई हैं। अब संकेत मिल रहे हैं कि अगर ओमिक्रॉन के मरीज ज्यादा बढ़े तो फिर सरकार से मागदर्शन मांगना पड़ेगा, उसके बाद ही परीक्षाएं कराने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाया जाएगा।

Join

इस संबंध में सहोदय ग्रुप के वाइस प्रेसीडेंट पीके पाठक का कहना है कि अब बोर्ड के पाले में गेंद है। क्योंकि पहले की जो गाइड लाइन थी, उसके अनुसार दोनों ही टर्म की परीक्षाएं आफलाइन ही संपादित होना थी। अब मौजूदा परिस्थतियों को देखते हुए जो निर्देश मिलेंगे, उसके अनुसार ही परीक्षाएं करवाई जाएंगी, क्योंकि हम तो बोर्ड के आदेशों पर निर्भर हैं। उन्होंने कहा कि इसी अवधि में प्रेक्टिकल भी करवाए जाएंगे।

Board Exam 2022 Cancelled
Board Exam 2022 Cancelled

प्री-बोर्ड का दूसरा टर्म जनवरी में

सीबीएसई स्कूलों में प्री-बोर्ड परीक्षाओं का दूसरा टर्म जनवरी में संपन्न होगा। सहोदय ग्रुप का कहना है कि पहला टर्म नवंबर में कराया गया था। अब दूसरा टर्म जनवरी में आयोजित किया जा रहा है। इसके लिए विद्यार्थियों की तैयारियां करवाई जा रही हैं। छात्र एवं छात्राएं जिस विषय में कमजोर हैं। उसमें उनकी तैयारी के लिए शिक्षक लगातार मेहनत कर रहे हैं। ग्रुप वाइस प्रेसीडेंट पाठक का कहना है कि विद्यार्थियों की तैयारियों की लगातार समीक्षा भी की जा रही है।

देश की राजधानी दिल्ली के मुख्यमंत्री ने CORONA का येलो अलर्ट घोषित किया

दिल्ली के मुख्यमंत्री केजरीवाल ने भारत की राजधानी दिल्ली में कोरोनावायरस का येलो अलर्ट डिक्लियर कर दिया है। सभी स्कूल कॉलेज टोटल बंद रहेंगे। सरकारी एवं प्राइवेट ऑफिस में 50% से अधिक कर्मचारी उपस्थित नहीं रह सकते। मार्केट खुले रहेंगे लेकिन किसी भी दुकान, रेस्टोरेंट अथवा होटल में भीड़ नहीं होनी चाहिए। Social Distancing का उल्लंघन होने पर दुकानदार के खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। शादी पार्टी आदि में 20 से अधिक लॉनगों की उपस्थिति पर रोक लगा दिया गया है।

एमपी में सीएम साहब शिवराज सिंह चौहान ने लिया फैसला-

प्रदेश में रात के कर्फ्यू (रात 11 से सुबह पांच बजे) के अलावा कोई प्रतिबंध नहीं रहेगा। स्कूल 50 प्रतिशत क्षमता के साथ संचालित होंगे। स्वास्थ्यकर्मी, पहली पंक्ति के कर्मचारी और रोगग्रस्त बुजुर्गों को 10 जनवरी से तीसरी (प्रिकाशन) सतर्कता डोज लगाई जाएगी। मंगलवार मंत्रालय में कोरोना की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने यह निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि आर्थिक गतिविधियां संक्रमण से बचाव की जरूरी सावधानियों के साथ संचालित हों। इससे पहले मुख्यमंत्री कोरोना के नए वैरियंट ओमीक्रॉन की स्थिति पर भारत सरकार की वर्चुअल बैठक में शामिल हुए।

| NMMS Scholarship 2021-22 Full Details

| एमपी राज्य वन सेवा भर्ती – अंतिम तिथि, अप्लाइ

| For Vaccination Certificate – How to get Vaccination Certificate

| स्कूल कॉलेज बंद – आदेश , ओमीक्रॉन का खतरा

कोरोना की समीक्षा के दौरान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने दिए निर्देश

  • शारीरिक दूरी का ध्यान रखें और
  • मरीज को जल्द स्वस्थ करने पर जोर दें।
  • किशोरों का टीकाकरण तीन जनवरी 2022 से 15 से 18 के किशोरों का टीकाकरण शुरू हो रहा है। वर्ष 2007 या उससे पहले जन्मे किशारों का कोविन एप या कोविन पोर्टल पर एक जनवरी से पंजीयन शुरू होगा।
  • केंद्र ने प्रदेश में 10 जनवरी से प्रिकाशन डोज लगाने निर्देश दिए हैं।

सभी खबरों के लिए गूगल पर सर्च करें physicshindi.com तथा अपने दोस्तों के साथ शेयर ज़रूर करें।

व्हाट्सएप पर सभी जानकारियाँ पाने के लिए यहाँ क्लिक करके आप हमारा Whatsapp ग्रुप जॉइन कर सकते है।