5वीं – 8वीं बोर्ड परीक्षाएं नहीं, जिला स्तर से आएंगे प्रश्न पत्र

कक्षा पांचवीं और आठवीं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न से नहीं होगी। परीक्षा स्थानीय स्तर पर ही जिला शिक्षाधिकारी के निर्देशन में स्कूलों में ली जाएगी। जो विद्यार्थी सभी विषयों में निर्धारित अंक लाएगा वह उत्तीर्ण माना जाएगा जबकि एक या इससे अधिक विषयों में निर्धारित अंक नहीं लाएगा वह अनुत्तीर्ण नहीं माना जाएगा बल्कि उसे दो महीने में ही परीक्षा का एक और मौका मिलेगा। यहां भी वह सफल नहीं होता है तो उसे उसी कक्षा में दोबारा बैठना होगा। राज्य शिक्षा केंद्र भोपाल ने कक्षा पांचवीं व आठवीं की वार्षिक परीक्षा का टाइम टेबल घोषित कर दिया। टाइम टेबल के अनुसार पूरे प्रदेश के स्कूलों में परीक्षा 1 से 9 अप्रैल तक ली जाएगी। कोविड-19 का संक्रमण लगभग खत्म होने से संभावना जताई जा रही थी कि इस बार दोनों कक्षाओं की परीक्षाएं बोर्ड पैटर्न से होंगी।

लेकिन टाइम टेबल के साथ राज्य शिक्षा केंद्र संचालक ने प्रदेश के जिला शिक्षाधिकारी, प्राचार्य, जिला शिक्षा एवं प्रशिक्षण संस्थान सहायक आयुक्त आदिवासी विभाग व जिला परियोजना समन्वयक, जिला शिक्षा केंद्र को स्पष्ट आदेश दिए कि आरटीई एक्ट 2019 संशोधन एवं गजट नोटिफिकेशन के उपरांत प्रदेश में कक्षा 5वीं एवं 8वीं की वार्षिक परीक्षा के रूप में संबोधित की जाएगी। इसे बोर्ड परीक्षा नहीं कहा जाएगा। परीक्षा में बैठने वाला वही बच्चा उत्तीर्ण घोषित किया जाएगा जो सभी विषयों में 33 प्रतिशत अंक लाएगा। यदि कोई बच्चा इतने अंक या ग्रेड प्राप्त नहीं कर पाता है तो उसे विद्यालय द्वारा अतिरिक्त पढ़ाई कराकर परीक्षा परिणाम घोषित होने की तारीख से दो माह की अवधि में उन विषयों में पुनः परीक्षा का अवसर दिया जाएगा। पुनः परीक्षा के मूल्यांकन के उपरांत भी यदि वह सभी विषयों में अथवा किसी भी विषय में इतने  अंक या ग्रेट प्राप्त नहीं करता है तो उसे उसकी अध्ययनरत कक्षा में ही वापस रोका जाएगा।

33 प्रतिशत अंक प्राप्त करना आवश्यक:-

साथ ही बताया गया कि प्रश्नपत्र 60 अंक का रहेगा 40 अंक होम प्रोजेक्ट के मिलेंगे। कक्षा 5वीं व 8वीं में प्रत्येक विषय का पूर्णांक 100 होगा। इसमें 60 अंक का लिखित प्रश्न 4 > एवं 40 अंक का होम बेस्ड प्रोजेक्ट कार्य होगा। बच्चे को वार्षिक परीक्षा के प्रत्येक विषय में 33 प्रतिशत अंक प्राप्त करना आवश्यक होगा। प्रत्येक विषय की लिखित बाह्य परीक्षा एवं प्रोजेक्ट आंतरिक परीक्षा में पृथक-पृथक 33 प्रतिशत अंक प्राप्त करना आवश्यक होगा। उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन बच्चे की अध्ययनरत शाला के शिक्षकों द्वारा नहीं किया जाएगा। स्थानीय स्तर पर छपेंगे प्रश्नपत्र, उत्तर पुस्तिकाएं प्रश्न पत्र व परीक्षा की अन्य सामग्री की सॉफ्ट कापी राज्य शिक्षा केन्द्र द्वारा जिला परियोजना समन्वयक को भेजी जाएगी। जिला परियोजना समन्वयक द्वारा परीक्षा सामग्री का मुद्रण कराया जाकर परीक्षा संबंधी समस्त सामग्री जिला शिक्षा अधिकारी, सहायक आयुक्त, आदिवासी विकास को उपलब्ध कराई जाएगी। विकासखंड अंतर्गत अन्य संकुल केन्द्र को मूल्यांकन केन्द्र बनाया जाएगा। संबंधित विद्यालय के प्राचार्य मूल्यांकन केन्द्राध्यक्ष रहेंगे।

Join
5th-8th Class Exam 2022
                                                         5th-8th Class Exam 2022

क्या कहना है बोर्ड का :-

एमपी बोर्ड ने इस बारे में सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म से जानकारी दी और पांचवी और आठवीं कक्षा की परीक्षाओं के लिए कुछ जरूरी दिशा-निर्देश जारी किए। आइए देखते हैं- कक्षा 5 वीं व 8वीं वार्षिक परीक्षा दिशा निर्देश परीक्षा में उत्तीर्ण न होने वाले छात्रों को विद्यालय द्वारा अतिरिक्त, शिक्षण दिया जाएगा और परीक्षा परिणाम घोषित होने के 2 महीने बाद विद्यार्थी को पुनः परीक्षा का अवसर प्रदान किया जाएगा।

  • जो छात्र इन परीक्षाओं में पास नहीं होते हैं, उन्हें अलग से स्कूल में रिजल्ट आने के बाद दो महीने ट्यूशन दिया जाएगा।
  • दो महीने की अतिरिक्त पढ़ाई के बाद उन्हें फिर से परीक्षा देने का मौका दिया जाएगा।
  • अगर इसके बाद भी वे किसी भी सभी विषयों में पास नहीं होते हैं तो उन्हें अगली कक्षा में जाने की अनुमति नहीं होगी।
  • वे पुरानी कक्षा में ही रहकर पढ़ाई जारी रखेंगे।
  • किसी भी छात्र को प्रारंभिक शिक्षा पूरी होने तक स्कूल से नहीं निकाला जाएगा।
  • एमपी बोर्ड 5वीं और 8वीं की परीक्षाएं 09 अप्रैल 2022 तक संपन्न हो जाएंगी और संभवत: परिणाम 22 अप्रैल तक घोषित कर दिए जाएंगे।

 

JOIN WHATSAPP GROUP CLICK HERE
JOIN TELEGRAM GROUP CLICK HERE
PHYSICSHINDI HOME CLICK HERE